Home

Latest Posts



Latest From World Paper

  • Profile picture of Kumar ravi hind

    अंतिम साथी, सच्ची साथी
    निश्चित है एक रोज मिलेगी
    कब मिलेगी ,कँहा मिलेगी
    ज्ञात नहीं….
    मुझे अपना बनाने,
    साथ ले जाने,
    ज़रूर आएगी।
    जग के झूठे बन्धन से छुड़वाकर
    प्रेम हाला मुझको पिलाकर
    मुझे साथ ले जाने,
    अंतिम साथी,
    सच्ची साथी आएगी
    किन्तु कब ,कँहा, कैसे?
    ज्ञात नही……
    ज्ञात नही…..

    रवि कुमार

    Share
  • Profile picture of Kumar ravi hind

    Kumar ravi hind posted an activity 1 week ago

    इ’क’कार को इ’न’कार करना था!
    अब जाना मुझे ‘न’ प्यार करना था!!
    पर दिल भला कब किसकी सुनता है,
    उसे तो बस प्यार, प्यार,प्यार करना था!!
    कुमार रवि हिन्द

    Share
  • Profile picture of seervi prakash panwar

    मोहबत की इन रंगीन तस्वीरो में देखो,ऐतबार नज़र आएगा!
    इन तस्वीरों से धुल हटा कर देखो, एक अहसास नज़र आएगा!
    जज्बातो की हैं मेरी यह कहानी, कोई क्या तोड़े पल भर में,
    पल मेरी परछाई को घूर कर देखो, मेरा यार नज़र आएगा!!
    –सीरवी प्रकाश पंवार

    Share
  • Profile picture of seervi prakash panwar

    यही सब बोल रहे थे कल, जादू हैं तेरी हाथों में!
    आख़िर उठा हूँ मै इसी से,जो टुटा था यादों में!
    कलम मेरी, कागज मेरा, इतिहास भी होगा!
    आख़िर बहूत कुछ छुपा हैं, उनकी ही हरकतों में!!
    –सीरवी प्रकाश पंवार

    Share
  • Profile picture of seervi prakash panwar

    अब तो हद हो गयी ज़माने की।
    जीते जी मौत के इस ज़नाज़े
    में इतने अपने हैं
    की एक शब्द भी निकल जाए गलती से,
    तो खुद को ही लगता हैं
    –सीरवी प्रकाश पंवार

    Share

Some Category Wise Showcased Posts

Shayari

Quotes

Funny

Videos

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2016 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account