2000 Hazar Ka Note – Hindi Funny Kavita

Login and start writing on World Paper.
Best post will be showcased on the main website and will be shared on our social media pages.

Log In

Copyright © devansh raghav

2000 हज़ार का नोट

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

सुबह सवेरे उठकर हम तो,
होकर आज तैयार चले।
टिफिन भी हमने पैक कराया,
बोतल गले का हार चले।
फ़ोन को फुल चार्ज किया,
पावर बैंक भी हाथ लिया।
नयी माया के दर्शन को आतुर,
पुरानी माया को साथ लिया।

लंबे लंबे कदम बढ़ाकर,
पहुँच गये बैंक पे अपने!
लंबी लगी कतार को देख,
टूटे गये फिर सारे सपने।
करके हिम्मत पंक्ति में लग गए,
अपनी बारी के प्रयास में लग गए।

दिन उगते के लगे हुए थे,
बैंको के शटर पड़े हुए थे।
बैंक के खुलते ही आँखों में चमक आ गयी,
गांधी जी के नए दर्शन की ललक छा गयी !!
तभी भीड़ में से एक स्वर फूटा,
वंदे मातरम् के साथ रेला बैंक पे टूटा।

फिर भीड़ में भी खुसर फुसर शुरू हुई,
मोदी के फैसलों पे संसद वहाँ शुरू हुई।
किसी ने फैसले को सही गढ़ा था,
कोई इसे गलत कहने पे अड़ा था।
हर किसी का अपना मत अपनी राय थी,
काले धन वालों में ही मची हाय हाय थी।

खड़े हुए पंक्ति में जब पैर में दर्द होने लगा।
तो मन में अचानक विरोध पैदा होने लगा।
फिर अचानक दिमाग में एक ख्याल टकराया,
जो सरहद पे खड़े है उनके बारे में याद आया।
जो देश के लिए इतनी तकलीफ उठाते हैं।
और एक हम है जो बस इतने में घुर्राते हैं।

अंत भला तो सब भला,
मेरा भी नंबर आया।
लपक के बैंक के अंदर,
अपना कदम बढ़ाया।
हज़ार पांच सौ के नोट,
सब उनको दिए थमाए।
तब जाके गांधी जी के
नये दर्शन हमने पाये।

नए रूप में नए रंग में
गांधी बाबा दर्शन दीन्ही
घंटो की तपस्या को
बाबा गुलाबी कीन्हीं।

अतः पूजा सफल हुई,
दिन से हो गयी रात।
2000 का नोट तब,
राघव अपने लगा हाथ।
~देवांश राघव

subah savere uthkar ham to,
hokar aak taiyaar chale !!
tifeen bhi hamne pack karaya,
bottle gale ka haar chale !!
phone ko full charge kiya,
power bank bhi haath liya !!
nayi maya ke darshan ko aatoor,
puraani maya ko saath liya !!

lambe lambe kadam bdakar,
pahuch gaye bank pe apne !!
lambhi lagi kataar ko dekh,
toot gaye phir saare sapne !!
karke himmat pankti mein lag gaye,
apni baari ke pryaas mein lag gaye !!

din ugte ke lage huye the,
banko ke shattur pade huye the !!
bank ke khulte hi aankho’n mein chamak aa gyi,
Gandhi ji ke naye darshan ki lalak chaa gyi !!
tabhi bheed mein se ek sawar foota,
vande maatram ke saath relaa bank pe toota !!

phir bheed mein bhi khusar fusar shuru huyi,
modi ke feslo mein sansad wahan shuru huyi !!
kisi ne fesle ko sahi gda tha,
koi ise galat kehne pe ada tha !!
har kisi ka apna mat apni rai thi,
kale dhan walo mein hi machi haaye haaye thi !!

khade huye pankti mein jab peir dard hone laga,
toh man mein achanak virodh peida hone laga !!
phir achanak dimag mein ek khyaal takraya,
jo sarhad pe khade hai unke baare mein yaad aya !!
jo desh ke liye itni takleef uthaate hai,
aur ek am hai jo bas itne mein ghurratey hai !!

anth bhla toh sab bhla,
mera bhi number aaya !!
lapak ke bank ke ander,
apna kadam badaya !!
hazar paanch sau ke note,
sab unko diye thmaaye !!
tab jaake Gandhi ji ke
naye darshan hamne paaye !!

naye roop mein naye rang mein
Gandhi baba darshan deenhi
ghanto ki tapasya ko
baba gulaabi keenhi !!

ateh pooja safal huyi,
din se ho gayi raat !!
2000 ka note tab,
Raghav apne laga haath !!
~Devansh Raghav

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2016 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account