Aakhir Wo Shayar Toot Gaya – Sad Shayari

Login and start writing on World Paper.
Best post will be showcased on the main website and will be shared on our social media pages.

Log In

Copyright © seervi prakash panwar

आख़िर वो शायर टूट गया

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

वो कलम टूट गया, वो शायर रूठ गया,
अपने ही एक रूप में, एक शायर डूब गया !!

क्या वजूद रहा उस शायर का इन नन्ही पलकों के आगे,
आखिर खुद के पैगामो पर उसका वजूद भूल गया,
आख़िर वो शायर टूट गया !!

कहीं छुपाया होगा उसने तो कहीं रंग दिखाया भी होंगा,
जब उसके ही रंगों में कोई उसको ही भूल गया !!
आख़िर वो शायर टूट गया !!

वो कलम टूट गया, वो शायर रूठ गया,
अपने ही एक रूप में, एक शायर डूब गया !!

शब्दों का वो घर उसका बहुत उम्मीदों से बना होगा,
फिर घर में रहने वाला ही मालिक को भूल गया !!
आख़िर वो शायर टूट गया !!

अक्षर अक्षर जोड़ उसने शब्द खड़ा किया था,
जब उसके शब्दों का कोई मोल लगा गया !!
आख़िर वो शायर टूट गया !!

वो कलम टूट गया, वो शायर रूठ गया,
अपने ही एक रूप में, एक शायर डूब गया !!

वो शब्द तब टूट गया जब अल्फ़ाज़ भीग गया,
वो कलम तब बिखर गया जब शायर का नाम भूल गया !!
आख़िर वो शायर टूट गया !!

बहुत कुछ खो कर, एक रूप गढ़ा था उसने,
फिर कोई खुद के ही शब्दों से उसको ही तोड़ दिया !!
आख़िर वो शायर टूट गया !!

वो कलम टूट गया, वो शायर रूठ गया,
अपने ही एक रूप में, एक शायर डूब गया !!
~सीरवी प्रकाश पंवार

Aakhir Wo Shayar Toot Gaya

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Wo Kalam Toot Gaya, Wo Shayar Rooth Gaya,
Apne Hi Ek Roop Mein, Ek Shayar Doob Gaya !!

Kya Vajood Raha Us Shayar Ka In Nanhi Palko Ke Aagey,
Aakhir Khud Ke Paigamo Par Uska Vajood Bhool Gaya,
Aakhir Wo Shayar Toot Gaya !!

Kahin Chupaya Hoga Usne To Kahin Rang Dikhaya Bhi Hoga,
Jab Uske Hi Rango Mein Koi Usko Hi Bhool Gaya !!
Aakhir Wo Shayar Toot Gaya !!

Wo Kalam Toot Gaya, Wo Shayar Rooth Gaya,
Apne Hi Ek Roop Mein, Ek Shayar Doob Gaya !!

Shabdo Ka Wo Ghar Uska Bahut Umeedo Se Bana Hoga,
Phir Ghar Mein Rehne Wala Hi Maalik Ko Bhool Gaya !!
Aakhir Wo Shayar Toot Gaya !!

Akshar Akshar Jod Usne Shabd Khada Kiya Tha,
Jab Uske Shabdo Ka Koi Mol Laga Gaya !!
Aakhir Wo Shayar Toot Gaya !!

Wo Kalam Toot Gaya, Wo Shayar Rooth Gaya,
Apne Hi Ek Roop Mein, Ek Shayar Doob Gaya !!

Wo Shabd Tab Toot Gaya Jab Alfaz Bheeg Gaya,
Wo Kalam Tab Bikhar Gaya Jab Shayar Ka Naam Bhool Gaya !!
Aakhir Wo Shayar Toot Gaya !!

Bahut Kuch Kho Kar, Ek Roop Gda Tha Usne,
Phir Koi Khud Ke Hi Shabdo Se Usko Hi Diya !!
Aakhir Wo Shayar Toot Gaya !!

Wo Kalam Toot Gaya, Wo Shayar Rooth Gaya,
Apne Hi Ek Roop Mein, Ek Shayar Doob Gaya !!
~Seervi Prakash Panwar

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2016 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account