Bachpan Ki Yaad – Hindi Kavita

Login and start writing on World Paper. Best poetry will be showcased on website and will be shared on our social media profiles.
Login

Copyright © kavish kumar

बचपन की याद

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

जब भी बैठता हूं किसी सिरहाने से सटकर,
बहुत सी यादें याद आ जाती हैं…
इस आधुनिकता के खेल में भी मुझे,
अपने बचपन की याद आ जाती है..

रसना खुश नही इन मंहगे पकवानो से,
बस बचपन की वो ‘मलाई’ याद आती है…
नही मिलता जब चैन ठंडे आशियानों में भी,
तो नीम के नीचे पङी वो ‘चारपाई’ याद आती है…

अकेले जब किसी सफर में थक जाता हूं मैं,
तो सुकून देने वाली वो मां की गोद याद आती है…
तसल्ली महसूस न होती खुद की कमाई से जब,
तो पापा के पैसे देने वाली वो ‘आदत’ याद आती है…

बीमार पङते हैं अब खुद चुन लेते हैं दवाई,
फिर भी बिस्तर पर लेटे हुए अपनो की ‘इबादत’ याद आती है…
दौङ धूप में गुजर जाते हैं दिन अब तो,
खेलकर लौटते थे वो ‘शाम’ याद आती है…

आशियाने जलाये जाते हैं जब तन्हाई की आग से,
तो बचपन के घरौंदो की वो मिट्टी याद आती है…
याद होती जाती है जवां बारिश के मौसम में तो,
बचपन की वो कागज की नाव याद आती है…

सुलगते है शरीर चार-दीवारी में रहकर,
तो मां-पापा के स्वर्ग की छांव याद आती है…
~कविश कुमार

रसना =जीभ

Jab bhi baithta hu kisi sirhaane se satkar,
bahut si yaadein yaad aa jaati hai !!
is aadhoonikta ke khel mein bhi mujhe,
apne bachpan ki yaad aa jaati hai !!

rasna khush nahi in mehnge pakwano se,
bas bachpan ki wo ‘milai’ yaad aayi hai !!
nahi milta jab chain thande aashiyaano mein bhi,
toh neem ke neeche padi wo ‘charpai’ yaad aati hai !!

akele jab kisi safar mein thak jaata hu main,
toh sukoon dene wali wo maa ki godh yaad aati hai !!
taslli mehsoos na hoti khud ki kamai se jab,
toh papa ke paise dene wali wo ‘aadat’ yaad aati hai !!

bimaar padhte hai ab khud chun lete hai dwai,
phir bhi bistar par lete huye apno ki ‘ibadat’ yaad aati hai !!
daud dhoop mein gujar jaate hai din ab toh,
khelkar lautte the wo ‘shaam’ yaad aati hai !!

aashiyaane jalaye jaate hai jab tanhai ki aag se,
toh bachpan ke gharondo ki wo mitti yaad aati hai !!
yaad hoti jaati hai jawan baarish ke mausam mein toh,
bachpan ki wo kagaz ki naav yaad aati hai !!

sulagte hai sharir chaar-diwari mein rehkar,
toh maa-baap ke swarg ki chaav yaad aati hai !!
~Kavish Kumar

rasna = jeebh

To report this post you need to login first.




2 Comments
  1. Profile photo of Arpita
    Arpita 1 year ago

    Very nice poetry about childhood …. 🙂

    • Rahul 2 months ago

      Fantastic….. I like it

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©2018 Poems Bucket

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account