Ek Kadam Badhao – Help Needy – Hindi Kavita

Login and start writing on World Paper. Best poetry will be showcased on website and will be shared on our social media profiles.
Login

Copyright © VIJAY KUMAR KHEMKA

एक कदम बढाओ,
कदम किसी कमज़ोर की तरफ.
उसे और परेशान करने के लिए नहीं !
उसकी मदद के लिए …
उसे एक सहारा देने के लिए …

कभी करीब तो जाओ
एक लड़की के.
उसकी इज्जत उतारने के लिए नहीं !
उसे सुरक्षित महसूस कराने के लिए …
उसे एहसास दिलाने के लिए …
की दुनिया में कितने भी हैवान आ जाये,
पर इंसान से जीत नहीं सकते ….

कभी हाथ तो बढ़ाओ,
किसी की जेब काटने के लिए नहीं !
किसी की खोई चीज़ लौटाने के लिए …
किसी को ये बताने के लिए …
कि दुनिया आज भी सच्चे लोगो से भरी है …

कभी आवाज तो लगाओ
आवाज किसी को ख़रीदने के लिए नहीं !
आवाज़ किसी की मदद के लिए …
आवाज़ लगाओ एक अन्याय के खिलाफ़ …

क्यों बाद में पछताते हो,
क्यों पहले शोर नहीं करते !!
वो मोमबत्तियाँ जो एक घटना के बाद जलती है,
क्यों किसी के लिए पहले नहीं जल जाती,
क्यों कोई हिम्मत नहीं कर पता
किसी पर होते हुए अत्याचार को यु ही देखता है
ओर बाद में दिखावा करते है
कि हमें दुःख है
कैंडल मार्च, शोक सभा, मोन धारण
ये सब क्यों !!?

तुम कल भी चुप थे जब कोई रो रहा था,
तड़प रहा था कोई…
तुम आज भी चुप हो जब कोई बोहोत दूर जा चूका है,
फर्क बस इतना है कि
पहले की चुप्पी एक बुझदिल की थी
और आज उसी चुप्पी ने मौन या शोक का नाम ले लिया है

एक कदम उठाओ
किसी की मदद के लिए
उस दिन तुम जीत जाओगे
उस दिन इंसानियत जीत जाएगी …
सब जीत जायेंगे
और सच बोलूँ तो
उससे अच्छी अनुभूति कोई भी नही हो सकती …

~विजय कुमार खेमका

Ek kadam badhao
Kadam kisi Kamzor ki taraf.
Use aur pareshaan karne ke liye nahi !
Uski madad ke liye…
Use ek sahaara dene ke liye…

Kabhi karib to jao
Ek Ladki ke.
Uski Ijjat utaarne ke liye nahi !
Use Surakshit mehsoos karaane ke liye…
Use ehsaas dilaane ke liye…
Ki duniya me kitne bhi Haiwan aa jaye…
Par Insaan se Jeet nahi sakte…

Kabhi haath to badhaao,
Kisi ki Jeb kaatne ke liye nahi !
Kisi ki khoyi cheez lautaane ke liye…
Kisi ko ye btaane ke liye…
Ki duniya aaj bhi sacche Logo se bhari hai…

Kabhi aawaz to lagaao
Aawaz kisi ko kharidne ke liye nahi !
Aawaz kisi ki madad ke liye…
Aawaz lagaao ek anyaye ke khilaf…

Kyon baad me Pachtate ho,
Kyon pehle shor nhi krte !!
Wo Mombattiya jo ek Ghatna k baad jalti hai,
Kyon kisi ke dil me pehle nhi jal jati,
Kyon koi himmat nhi kar pata
Kisi par hote hue Atyachar ko yu hi dekhta hai
Or baad me Dikhawa krta hai
Ki hame dukh hai
Candle march, Sauk Sabha, Maun Dhaaran
Ye sab kyon…

Tum kal bhi chup the jab koi Ro rha tha,
Tadap raha tha koi…
Tum aaj bhi chup ho jab Koi bohot door ja chuka hai,
Farq bas itna hai ki…
Pehle ki chuppi ek Bujhdil ki thi
Or aaj usi chuppi ne Maun ya Sok ka naam le lia hai…

Ek kadam uthaao
Kisi ki madad k liye..
Us Din tum jeet jaoge
Us din INSAANIYAT jeet jayegi…
Sb jeet jayenge
Or sach bolu to
Usse acchi Anubhuti koi bhi nahi ho sakti…

With request.. Please take a step.
Help Needy…

Written By Vijay Kumar Khemka

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©2018 Poems Bucket | Best Website For Poems & Shayari

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account