Haan Main Aazaad Hindustan Likhne Aya Hu – Desh Bhakti Kavita

Login and start writing on World Paper.
Best post will be showcased on the main website and will be shared on our social media pages.

Log In

Copyright © Vikas Kumar Giri

हाँ मैं आजाद हिंदुस्तान लिखने आया हूँ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

भूखे, गरीब, बेरोजगार,
अनाथो और लाचार की,
दास्तान लिखने आया हूँ,
हाँ मैं आजाद हिंदुस्तान लिखने आया हूँ !!

एक ही कपड़े में सारे मौसम गुजारने वाले,
सूखा, बाढ़ और ओले से फसल बर्बाद होने पर रोने और मरने वाले !!
कर्ज में डूबे हुए उस अन्नदाता किसान की जुबान लिखने आया हूँ,
हाँ मैं आजाद हिंदुस्तान लिखने आया हूँ !!

मैं भगत, सुभाषचन्द्र और आज़ाद जैसा भारत माँ का सपूत तो नहीं,
लेकिन इन्हें सिर्फ जन्म और मरण दिन पर याद करने वाले और आँशु बहाने वाले,
उन्हें इन सपूतों की याद दिलाने,
फिर से बलिदान लिखने आया हूँ,
हाँ मैं आजाद हिंदुस्तान लिखने आया हूँ !!

मजहब के नाम पर ना हो लड़ाई,
जाती धर्म के नाम पर ना हो किसी की पिटाई !!
सब मिल-जुलकर रहे भाई भाई,
जाती धर्म से ऊपर उठने के लिए,
इम्तिहान लिखने आया हूँ,
हाँ मैं आजाद हिंदुस्तान लिखने आया हूँ !!

सीमा पर देश के लिए लड़ने वाले,
अपनी जान की परवाह किए बिना,
देश पर मर मिटने वाले !!
मैं देश के ऐसे वीरों को सलाम लिखने आया हूँ,
हाँ मैं आजाद हिंदुस्तान लिखने आया हूँ !!

सब के पास हो रोज़गार और अपना व्यापार,
देश मुक्त हो ग़रीबी, बेरोजगारी, बलात्कार और भष्ट्राचार !!
मैं देश के लोगो के सपने और अरमान लिखने आया हूँ,
हाँ मैं आजाद हिंदुस्तान लिखने आया हूँ !!
~विकास कुमार गिरि

Haan Main Aazaad Hindustan Likhne Aya Hu

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Bhukhe, Garib, Berojgaar,
Anaatho Aur Laachaar Ki,
Daastaan Likhne Aaya Hu,
Haan Main Aazaad Hindustan Likhne Aya Hu !!

Ek Hi Kapde Mein Saare Mosam Gujaarne Wale,
Sookha, Baad Aur Ole Se Fasal Barbaad Hone Par Rone Aur Marne Wale !!
Karz Mein Doobe Huye Us Andaata Kisaan Ki Jubaan Likhne Aaya Hu,
Haan Main Aazaad Hindustan Likhne Aya Hu !!

Main Bhagat, Subhash Chandr Aur Aazaad Jaisa Bharat Ka Sapoot To Nahi,
Lekin Inhe Sirf Janm Aur Marn Din Par Yaad Karne Wale Aur Aansoo Bahane Wale,
Unhe In Sapooto Ki Yaad Dilaane Aya Hu,
Phir Se Balidaan Likhne Aaya Hu,
Haan Main Aazaad Hindustan Likhne Aya Hu !!

Majhab Ke Naam Par Na Ho Ladai,
Jaati Dharm Ke Naam Par Na Ho Kisi Ki Pitai !!
Sab Mil-julkar Rahe Bhai Bhai,
Jaati Dharm Se Upar Udhte Ke Liye,
Imthihaan Likhne Aaya Hu,
Haan Main Aazaad Hindustan Likhne Aya Hu !!

Seema Par Desh Ke Liye Ladne Wale,
Apni Jaan Ki Parwaah Kiye Bina,
Desh Par Mar Mitne Wale !!
Main Ke Aise Veero Ko Salaam Likhne Aaya Hu,
Haan Main Aazaad Hindustan Likhne Aya Hu !!

Sab Ke Paas Ho Rojgaar Aur Apna Vyapaar,
Desh Mukt Ho Giribi, Berojgaari, Balaatkaar Aur Bhrastachar !!
Main Desh Ke Logo Ke Sapne Aur Armaan Likhne Aaya Hu,
Haan Main Aazaad Hindustan Likhne Aya Hu !!
~Vikas Kumar Giri

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2016 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account