Khilona – A Hindi Poetry For Girl – Save Girl Child

Login and start writing on World Paper.
Best post will be showcased on the main website and will be shared on our social media pages.

Log In

Copyright © VIJAY KUMAR KHEMKA

किसी पिता की दुलारी, किसी माँ की जान हूँ,
कोई खिलौना नहीं, मैं भी एक इंसान हूँ !!

किसी की बेटी बन कर आती हूँ,
किसी की बहन कहलाती हूँ !!
फिर एक दिन, अपना ही घर छोड़ कर,
किसी की पत्नी बन जाती हूँ !!
और भी बहुत से रूप है मेरे,
जिनसे मैं अनजान हूँ,
कोई खिलौना नहीं, मैं भी एक इंसान हूँ !!

रामायण का अपहरण,
महाभारत वस्त्रहरण !!
कोई जगह महफूज़ नहीं,
जहाँ मैं ले सकूं शरण !!
ऐसी घिनौनी सोच से मैं,
युगों युगों से परेशान हूँ,
कोई खिलौना नहीं, मैं भी एक इंसान हूँ !!

जली मैं दहेज़ के कारण कहीं,
बनी किसी दरिन्दे का शिकार कभी !!
पूजते रहे जो देवी बना कर लोगो के सामने,
वो ही मेरे दुश्मन बन चुके है अभी !!
झूठे बहसी लोगो के लिए मैं,
खिलौना सा एक सामान हूँ,
आज एक बार फिर बता दूं उन्हें, की मैं भी एक इंसान हूँ !!

कभी झूठी मोहब्बत के नाम पर,
कभी दफ्तर में, कभी काम पर !!
जीने दे, ना लूट मुझे तू,
न मुझको यूं बदनाम कर !!
मत सोच की मैं लड़की हु तो,
तेरे कदमो की गुलाम हूँ,
कोई खिलौना नहीं तेरे हाथों की, मैं भी एक इंसान हूँ !!

मत कर मेरी पूजा तू,
मत बोल मैं देवी का रूप हूँ !!
बस इतना सा कर दे करम,
की सांस भर के जी सकूं !!
मेरा रूप तेरे घर में भी है,
तेरे घर की भी मैं शान हूँ,
अब मान इस बात को तू, मैं तेरे जैसी इंसान हूँ….
विजय कुमार खेमका

Kisi Pita Ki Dulaari, Kisi Maa Ki Jaan Hu,
Koi Khilona Nahi, Main Bhi Ek Insaan Hu !!

Kisi Ki Beti Ban Kar Aati Hu,
Kisi KBahan Kehlaati Hu !!
Phir Ek Din Apna Hi Ghar Chhod Kar,
Kisi Ki Patni Ban Jaati Hu !!
Aur Bhi Bohot Se Roop Hai Mere,
Jinse Mai Anjaan Hu,
Koi Khilona Nahi, Main Bhi Ek Insaan Hu !!

Ramayana Ka Apharan,
Mahabharat Me Vastraharan !!
Koi Jagah Mehfooz Nahi,
Jaha Main Le Saku Sharan !!
Aisi Ghinauni Soch Se Main,
Yugo Yugo Se Pareshaan Hoon,
Koi Khilona Nahi, Main Bhi Ek Insaan Hu !!

Jali Mai Dahej Ke Kaaran Kahin,
Bani Kisi Darindey Ka Shikaar Kabhi !!
Poojte Rahe Jo Devi Bna Kar Logo K Saamne,
Wo Hi Mere Dushman Ban Chuke Hai Abhi !!
Jhuthe Bahsi Logo Ke Liye Main,
Khilone Sa Ek Saamaan Hu,
Aaj Ek Baar Phir Bta Du Unhe, Ki Mai Bhi Ek Insaan Hu !!

Kabhi Jhuthi Mohabbat Ke Naam Par,
Kabhi Daftar Mein, Kabhi Kaam Par !!
Jeene De, Naa Loot Mujhe Tu,
Na Mujhko Yu Badnaam Kar !!
Mat Soch Ki Main Ladki Hu To,
Tere Kadmo Ki Gulaam Hu,
Koi Khilona Nahi Tere Haatho Ki, Main Bhi Ek Insaan Hu…

Mat Kar Meri Puja Tu,
Mat Bol Mai Devi Ka Roop Hu,
Bas Itna Sa Kar De Karam,
Ki Saas Bhar Ke Jee Saku…
Mera Roop Tere Ghar Me Bhi Hai,
Tere Ghar Ki Bhi Mai Shaan Hu,
Ab Maan Is Baat Ko Tu, Main Tere Jaisi Insaan Hu…

Please save Girls. Protect Them.

Written By: Vijay Kumar Khemka

To report this post you need to login first.




7 Comments
  1. Mridul 5 months ago

    very very nice …. thanx a lot for such great poem.

  2. Anamika rai 7 months ago

    Nice n touchy

  3. Profile photo of Tripti
    Tripti 1 year ago

    Wow….. its really amazing poetry
    Touched my heart

  4. Profile photo of Nitin Verma
    Nitin Verma 1 year ago

    Bohot accha likha hai… keep it up buddy .. 🙂

  5. Profile photo of VIJAY KUMAR KHEMKA Author
    VIJAY KUMAR KHEMKA 1 year ago

    Thank You Sir.

  6. Profile photo of devansh raghav
    devansh raghav 1 year ago

    अद्भुत कविता है खेमका जी।
    दिल छू लिया।
    आपकी लेखनी को प्रणाम

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2016 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account