Kuch Yaksh Prashn Hai Mere – Sad Life Shayari

Login and start writing on World Paper.
Best post will be showcased on the main website and will be shared on our social media pages.

Log In

Copyright © Shweta Pandey

कुछ यक्ष प्रश्न है मेरे

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

कुछ यक्ष प्रश्न है मेरे,
उत्तरो की तलाश में हूँ !!
संवाद अधूरे है अभी,
मैं निष्कर्ष की आस में हूँ !!
जो मिल गया वो अपूर्ण है,
जो प्राप्त नही उसकी चाह है !!
शून्य है गर ब्रह्मांड यह,
मानव को किसकी तलाश है !!

यहाँ स्वयं कुछ तेरा नही,
जो मिल गया वो छिन गया !!
हर दिन खोज जारी हैं,
नया हर रोज मिलने की तैयारी है !!
कुछ अतीत के अवशेष है,
कुछ भविष्य की उड़ान है !!
हर दिन तू कुछ प्राचीन सा,
हर दिन तू कुछ नवीन है !!

अश्रु किस बात पर,
खुशियाँ भी सदा नहीं !!
साँसो का जब तक बोझ है,
अवरोध ही अवरोध है !!
यह बोझ ढोती साँसो का,
श्मशान तक का साथ है !!
आवागमन का चक्र है,
न मैं तेरे साथ हूँ !!
न तू मेरे साथ है !!
~श्वेता पाण्डेय

Kuch Yaksh Prashn Hai Mere

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Kuch Yaksh Prashn Hai Mere,
Utro Ki Talash Mein Hu !!
Sanvaad Adhoore Hai Abhi,
Main Nishkarsh Ki Aas Mein Hoon !!
Jo Mil Gaya Wo Apoorn Hai,
Jo Prapt Nahi Uski Chah Hai !!
Shooney Hai Gar Bhramaand Yeh,
Maanav Ko Kiski Talash Hai !!

Yahan Swem Kuch Tera Nahi,
Jo Mil Gya Wo Chin Gaya !!
Har Din Khoj Jaari Hai,
Naya Har Roz Milne Ki Taiyaari Hai !!
Kuch Ateet Ke Avshesh Hai,
Kuch Bhavishey Ki Udaan Hai !!
Har Din Tu Kuch Pracheen Sa,
Har Din Tu Kuch Naveen Hai !!

Ashru Kis Baat Par,
Khushiya Bhi Sda Nahi !!
Sanso Ka Jab Tak Bojh Hai,
Avrodh Hi Avrodh Hai !!
Yeh Bojh Dhoti Sanso Ka,
Shamsaan Tak Ka Saath Hai !!
Aavaagaman Ka Chakr Hai,
Na Main Tere Saath Hu !!
Na Tu Mere Saath Hai !!
~Shweta Pandey

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2016 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account