Par Tumhara Saath Nahi – Sad Shayari

Login and start writing on World Paper. Best poetry will be showcased on website and will be shared on our social media profiles.
Login

Copyright © vijay singh diggi

पर तुम्हारा साथ नहीं

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

राह भी है,
हौंसला भी है,
मंजिल का ठिकाना भी है…
पर तुम्हारा साथ नहीं !!

सांसें भी है,
धड़कन भी है,
जीने की चाह भी है…
पर तुम्हारा साथ नहीं !!

सूरज भी है,
चाँद भी है,
इस दुनिया की रीत भी है,
पर तुम्हारा साथ नहीं !!
~विजय सिंह दिग्गी

rah bhi hai,
hausla bhi hai,
manzil ka thikana bhi hai…
par tumhara saath nhi !!

sansein bhi hai,
dhadkan bhi hai,
jeene ki chah bhi hai…
par tumhara saath nhi !!

suraj bhi hai,
chand bhi hai,
Is duniya ki reeth bhi hai…
par tumhara saath nhi !!
~Vijay Singh Diggi

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©2018 Poems Bucket

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account