Pehle Nirbhya Aaj Asifa – Hindi Shayari Save Girl Child

Login and start writing on World Paper. Best poetry will be showcased on website and will be shared on our social media profiles.
Login

Copyright © NiVo (Nitin Verma)

पहले निर्भया, आज आसिफा

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

पहले निर्भया, आज आसिफा

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

पहले निर्भया, आज आसिफा

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

पहले निर्भया, आज आसिफा

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

पहले निर्भया, आज आसिफा

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

पहले निर्भया, आज आसिफा

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

लाल हुई ज़मीन,
फिर किसी मासूम रक्त से !!
नन्ही सी जान खूब लड़ी,
उस महरूम वक़्त से !!

चीखें उसकी, उन्हें भी,
शेरनी की दहाड़ सी लगी होगी !!
बावजूद उसके, कैसे ज़िंदा थी वो,
हिम्मत विशाल पहाड़ सी लगी होगी !!

मार दिया कमबख्तों ने,
दीन, दया, शर्म न आई उन्हें !!
मरते मरते भी दुष्कर्म किया,
अपनी बेटी नज़र न आई उन्हें !!

ज़ुबान पर यूं तो उनके,
राम राम जाप था !!
ज़ेहन में उनके लेकिन,
हवस, हैवान, पाप था !!

नियम-कानून न बदला अगर,
ये हैवानियत और बढ़ जाएगी !!
पहले निर्भया, आज आसिफा,
कल कोई और सूली चढ़ जाएगी !!

हर तरफ दरिंदो का राज होगा,
नन्हें परिंदे खाता बाज होगा !!
दुष्कर्म की सजा जब मौत होगी,
तब मुझे भारतीय होने का नाज होगा !!
~नीवो (नितिन वर्मा)

Pehle Nirbhya Aaj Asifa

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Pehle Nirbhya Aaj Asifa

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Pehle Nirbhya Aaj Asifa

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Pehle Nirbhya Aaj Asifa

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Pehle Nirbhya Aaj Asifa

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Pehle Nirbhya Aaj Asifa

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Laal Hui Zameen,
Phir Kisi Maasum Rakt Se !!
Nanhi Si Jaan Khoob Ladi,
Us Mehroom Waqt Se !!

Chikhe Uski, Unhe Bhi,
Sherni Ki Dahaad Si Lagi Hogi !!
Bavzood Uske, Kaise Zinda Thi Wo,
Himmat Vishal Pahaad Si Lagi Hogi !!

Maar Diya Kambakhto Ne,
Deen, Daya, Sharm Na Aayi Unhe !!
Mrte Mrte Bhi Dushkarm Kiya,
Apni Beti Nazar Na Aayi Unhe !!

Zubaan Par Yu To Unke,
Raam-raam Jaap Tha !!
Zehan Mein Unke Lekin,
Hawas, Hewan, Paap Tha !!

Niyam-Kanoon Na Badla Agar,
Ye Hewaniyat Aur Badh Jayegi !!
Phle Nirbhya, Aaj Asifa,
Kal Koi Aur Sooli Chad Jayegi !!

Har Taraf Darindo Ka Raaj Hoga,
Nanhe Parinde Khaataa Baaj Hoga !!
Dushkrm Ki Saja Jab Maut Hogi,
Tab Mujhe Bhartiye Hone Ka Naaj Hoga !!
~NiVo (Nitin Verma)

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©2018 Poems Bucket | Best Website For Poems & Shayari

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account