Rakhoge Khyal Ma-Papa Ka Bas Yahi Vachan Dena

Login and start writing on World Paper. Best poetry will be showcased on website and will be shared on our social media profiles.
Login

Copyright © PoemsBucket

इस राखी पर भैया ,मुझे बस,
यही तोहफा देना तुम !!
रखोगे ख्याल माँ-पापा का , बस यही एक,
वचन देना तुम !!
बेटी हूं मैं , शायद ससुराल से रोज़ न आ पाऊंगी ,
जब भी पीहर आऊंगी ,
एक मेहमान बनकर आऊंगी !!
पर वादा है, ससुराल में संस्कारों से,
पीहर की शोभा बढाऊंगी ,
तुम तो बेटे हो , इस बात को न
भुला देना तुम ,
रखोगे ख्याल माँ -पापा का बस यही वचन
देना तुम ।
मुझे नहीं चाहिये सोना-चांदी , न चाहिये
हीरे-मोती ,
मैं इन सब चीजों से कहां सुःख रह पाऊंगी
देखूंगी जब माँ-पापा को पीहर में खुश
तो ससुराल में चैन से मैं भी जी पाऊंगी
अनमोल हैं ये रिश्ते , इन्हें यूं ही न
गंवा देना तुम ,
रखोगे ख्याल माँ-पापा का , बस
यही वचन देना तुम ।
वो कभी तुम पर या भाभी पर
गुस्सा हो जायेंगें,
कभी चिड़चिड़ाहट में कुछ कह भी जायेंगे ,
न गुस्सा करना , न पलट के कुछ कहना तुम ,
उम्र का तकाजा है, यह
भाभी को भी समझा देना तुम ,
इस राखी पर भैया मुझे बस
यही तोहफा देना तुम ,
रखोगे ख्याल माँ-पापा का , बस
यही वचन देना तुम ।

Is rakhi par bhaiya, mujhe bas,
yahi tofa dena tum!!
rakhoge khyal maa-papa ka, bas yahi ek,
vachan dena tum!!
beti hoon main, shayad sasural se roz na aa paugi,
jab bhi pihar aungi,
ek mehmaan bankar aungi!!

par vada hai, sasural mein sanskaaro se,
pihar ki shobha badaugi,
tum to bere ho, ek baat ko na
bhula dena tum,
rakhoge khayal maa-papa ka bas yahi vachan
dena tum!!

mujhe nahi chahiye sona-chandi, na chahiye
heere-moti,
main in sab cheezo se kahan khush reh paugi!!
dekhugi jab maa-papa ko pihar mein khush,
to sasural mein chain se main bhi zi paungi!!
anmol hai ye rishte, inhe yu hi na
gva dena tum!
rakhoge khyaal maa-papa ka, bas
yahi vachan dena tum!

wo kabhi tum par ya bhabhi par
gussa ho jayenge,
kabhi chichidhahat mein kuch keh bhi jayenge,
na gussa karna, na palat ke kuch kehna tum,
umar ka talaza hai, yeh
bhabhi ko bhi samajha dena tum,
is rakhi par bhaiya mujhe bas
yahi tofa dena tum,
rakhoge khyal maa-papa ka, bas
yahi vachan dena tum!

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©2018 Poems Bucket

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account