Sang Gujri Yaado Ko – Sad Love Shayari

Login and start writing on World Paper. Best poetry will be showcased on website and will be shared on our social media profiles.
Login

Copyright © Sachin A. Pandey 'Satyaveer'

संग गुजरी यादो को

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

संग गुज़री यादों को अब भुलाया नहीं जाता !
दिल में जगे जज़्बातों को अब सुलाया नहीं जाता !!

झेल लिए ढेरो सितम उसके हर घड़ी,हर डगर,
मगर मासूम-सी उसकी सूरत देख बेवफ़ा उसे बुलाया नहीं जाता !!
जी करता कि ग़मों से भर दूँ झोली उसकी मैं,
जबकि जो सच कहूँ तो पलभर भी उसे अब रुलाया नहीं जाता !!

की हैं लाख नाकाम कोशिशें उससे दूरियाँ बनाने की,
पर चाह कर भी हमदर्मियान ये अनूठा नाता अब छुड़ाया नहीं जाता !!
पड़ जाएँ कितनी ही कुदरती बंदिशें इस गुलशन-ए-वफ़ा पर,
फिर भी प्रीति का गुल यूँ तो अब मुरझाया नहीं जाता !!

ज़िंदगी को मुहय्या हुई हर खुशहाली रहमत-ए-खुदा से,
पर बगैर उसके अब इस दिल को कुछ लुभाया नहीं जाता !
इश्क़ करना छोड़ दो कहते ये ज़मानेवाले,
मगर रोम-रोम में रौशन चिराग-ए-मोहब्बत को अब बुझाया नहीं जाता !!
~सचिन अ. पाण्डेय ‘सत्यवीर’

Sang Gujri Yaado Ko

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Sang Gujri Yaadon Ko Ab Bhulaya Nahi Jata!
Dil Mein Jage Zazbaato Ko Ab Sulaya Nahi Jata !!

Jhel Liye Dhero Sitam Uske Har Ghadi, Har Dagar,
Magar Masoom-si Uski Surat Dekh Bewafa Use Bulaya Nahi Jaata !!
Ji Karta Ki Gamo Se Bhar Du Jholi Uski Main,
Jabki Jo Sach Kahu To Palbhar Bhi Use Ab Rulaya Nahi Jata !!

Ki Hai Lakh Naakaam Koshishein Usse Dooriya Banane Ki,
Par Chah Kar Bhi Hamdarmiyaan Ye Anutha Naata Ab Chudaya Nahi Jaya !!
Pad Jaaye Kitni Hi Kudrati Bandishein Is Gulshan-e-Wafa Par,
Phir Bhi Preeti Ka Gul Yu To Ab Murjhaya Nahi Jata !!

Zindgi Ko Muhyya Huyi Har Khushaali Rehmat-e-Khuda Se,
Par Bageir Uske Ab Dil Ko Kuch Lubhaya Nahi Jata !!
Ishq Karna Chod Do Kehte Ye Jamaanewale,
Magar Rom-rom Mein Roshan Chirag-e-Mohabbat Ko Ab Bhujaya Nahi Jata !!
~Sachin A. Pandey ‘Satyaveer’

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©2018 Poems Bucket | Best Website For Poems & Shayari

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account