Shabdo Ka Karwa’n – Sad Love Shayari

Login and start writing on World Paper. Best poetry will be showcased on website and will be shared on our social media profiles.
Login

Copyright © kavish kumar

शब्दों का कारवां

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

सुबह उठते ही जब तुमको देखता,
जैसे सारा दिन संवर जाता था….
जब चलते तुम चंचलता से राहों पर,
तो कण-कण यूं ही खुश हो जाता था…
दोपहर की तपन खुद पर पङते ही,
बादल रवि के साथ अठखेलिया कर जाता था…

इतने सार्थक घटनाक्रमों के बावजूद,
ये तुमने कैसा बवाल कर दिया…
निरंतर चलने वाली इस कलम को
पल में ही विकलांग कर दिया…
जैसे – जैसे पढ रहा था तुमकों,
कुछ नया सा जुङता चला जा रहा था…
कलम के पैर और मेरे हाथ थे स्थिर,
रास्ता खुद-ब-खुद मुङता चला जा रहा था…

तुम कहो तो और पढ लूं,
शायद छूटा हो कुछ शब्द चेहरे पर उथला हुआ…
मिल जाए कोई शब्द चेहरे की लकीरों से,
नवजात न सही कुछ समय से पला हुआ…

तुम्हारे चेहरे की मासूमियत से,
सारा ग्रंथ उद्घोष है…
बनता जा रहा शब्दों का कारवां,
तो इसमें मेरा क्या दोष है…

क्या फर्क पड़ता है तुम्हारा मुझसे मिलने से,
ये कैसा तुमने प्रश्न कर दिया..
जवाब में देखा न हमने,
सारा सत्य उजागर कर दिया…
तुम्हारे दीदार कम क्या हुए जरा से,
हमने भी लिखना मंद कर दिया…
चेहरा छुपाना शुरू किया तुमने जब हमसे,
हमने भी चेहरा पढना ही बंद कर दिया….
~कविश कुमार

subah uthte hi jab tumhe dekhta,
jaise sara din sanwar jata tha !!
jab chalte tum chanchalta se raaho par,
toh kan-kan yoo hi khush ho jata tha !!
dopher ki tapan khud par padte hi,
badal ravi ke saath athkheliya kar jata tha !!

itne sarthak ghatnakramo ke bavjood,
ye tumne kaisa bawaal kar diya !!
nirantar chalne wali is kalam ko,
pal mein hi viklaang kar diya,
jaise-jaise padh raha tha tumko !!
kuch naya ka judta chla ja raha tha,
kalam ke peir aur mere haath the isthir,
raasta khud-ba-khud mudta chla ja rha tha !!

tum kaho toh aur padh loo,
shayad choota ho kuch shabd chehre par uthla huya !!
mil jaaye koi shabd chehre ki lakhiro se,
navjaat na sahi kuch samey se pla huya !!

tumhare chehre ki masoomiyat se,
saara granth udghosh hai !!
banta ja rha shabdo ka karwa’n,
toh isme mera kya dosh hai !!

kya fark padhta hai tumhara mujhse milne se,
ye kaisa tumne prashn kar diya,
jawab mein dekha na hamne,
saara satya ujagar kar diya !!
tumhara didaar kam kya huye zara se,
hamne bhi likhna mand kar diya !!
chehra chupana shuru kiya tumne jab hamse,
hamne bhi chehra padhna hi band kar diya !!
~Kavish Kumar

To report this post you need to login first.




0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

©2018 Poems Bucket | Best Website For Poems & Shayari

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account