आना और जाना, है दस्तूर पुराना,
तुम अपना फ़र्ज़ निभाना, इससे क्या घबराना !!
और घबरा कर जो रुक गए तुम, फिर पड़े तुम्हे पछताना,
आना और जाना, है दस्तूर पुराना !!

इस ज़माने में जो, तुमको टिकना है,
गिर कर के -2, कई बार उठना है !!
जो गिरे पड़े तुम रह गए तो, निकल जायेगा जमाना,
आना और जाना, है दस्तूर पुराना !!

सफलता मिलेगी, कुछ हानि भी होगी,
लाभ तो मिलेगा, परेशानी भी होगी !!
जीवन के सफ़र में उलझन भी बहुत हैं,
जो इन में तुम उलझे, तो मुश्किल होगा सुलझाना,
आना और जाना, है दस्तूर पुराना !!

सुख और दुःख , लाभ और हानि,
एक ही सिक्के की, हैं दोनों निशानी !!
दुःख के ही बारे में जो सोचा उम्र भर, तो मुश्किल होगा सुख पाना,
आना और जाना, है दस्तूर पुराना !!

Aana aur jaana, hai dastoor purana,
tum apna farz nibhana, isse kya ghabrana !!
aur ghabra kar jo ruk gaye tum, phir pade tumhe pachtana,
Aana aur jaana, hai dastoor purana !!

is zmaane mein j, tumko tikna hai,
gir kar ke -2, kai baar uthna hai !!
jo gire pade tum reh gaye to, nikal jayega zmaana,
Aana aur jaana, hai dastoor purana !!

saflta milegi, kuch haani bhi hogi,
laabh to milega, pareshaani bhi hogi !!
jeevan ke safar mein uljhan bhi bahut hai,
jo inme tum ulje, to mushkil hoga suljhaana,
Aana aur jaana, hai dastoor purana !!

sukh aur dukh, laabh aur haani,
ek hi sikke ki, hai dono nishaani !!
dukh ke hi baare mein jo socha umr bhar, to mushkil hoga sukh pana,
Aana aur jaana, hai dastoor purana !!

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
4 Comments
  1. NiVo (Nitin Verma) 3 years ago

    बहुत सुंदर व्यक्त किया जीवन के दस्तूर को……
    “सफलता मिलेगी, कुछ हानि भी होगी,
    लाभ तो मिलेगा, परेशानी भी होगी !! ” …. दिल को छू देने वाली पंक्तियाँ …. उम्मीद है और भी पढने के लिए मिलेगा आपसे… 🙂

    • Author
      devansh raghav 3 years ago

      धन्यवाद आपका।। हार्दिक आभार।

  2. Richie Rich 3 years ago

    Awesome…. Very well said Bro….

    • Author
      devansh raghav 3 years ago

      धन्यवाद आपका।। हार्दिक आभार।

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?