आँखे

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

तेरी झील सी आँखों की,
गहराई से डरने वाले।
कोई और ही होंगे सनम,
हम तो तुझ पर मरने वाले।

यूँ तो इन आँखों की मस्ती के,
दीवाने कितने सारे है।
पर उन परवानों की कश्ती के,
हम बहते हुए धारे है।
इस दुनिया में लोग हैं सुन्दर,
पर उनके मन काले।

आँखों की जुबां कहती है क्या,
हम क्या समझें, हम क्या जाने,
पर दर्द-ए-दिल की हैं ये दवा।
ये जो रोग तेरी आँखों का लगा,
मिटा दे पिला पिला कर के,
नशीली आँखों के प्याले।

इन आँखों की कहानी, नहीं पुरानी
हैं अमर प्रेम की गाथाएँ।
इन गाथाओं का ज्ञान हमें,
है शक्ति यही, अभिमान हमें।
हर कोई सुनता, हर कोई सुनाता है
हम तो गाथा रचने वाले।
हम तो तुझ पर मरने वाले।
~देवांश राघव

teri jheel si aankho ki,
gehrai se darne wale !!
koi aur hi honge sanam,
ham toh tujh par marne wale !!

yoo toh in ankho ki masti ke,
diwaane kitne saare hai !!
par un parwaano ki kashti ke,
ham behte huye dhaare hai !!
is duniya mein log hai sunder,
par unke man kaale !!

aankho ki jubaan kehti hai kya,
ham kya samjhe, ham kya jaane,
par dard-e-dil ki hai ye dwa !!
ye jo rog teri aankho ka lga,
mita de pila pila kar ke,
nasheeli ankho ke pyaale !!

in aankho ki kahani, nahi puraani,
hai amar prem ki gaathayein !!
in gaathayo ka gyaan hame,
hai shakti yahi, abhiman hame !!
har koi sunta, har koi sunata hai,
ham toh gatha rachne wale !!
ham toh tujh par marne wale !!
~Devansh Raghav

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
4 Comments
  1. Rashi Sharma 3 years ago

    Beautiful poem….

    • Author
      devansh raghav 3 years ago

      धन्यवाद राशी जी। आभार आपका।

  2. NiVo (Nitin Verma) 3 years ago

    Ankho ka varnan bahut khoob kia …. well written …. keep it up bro…

    • Author
      devansh raghav 3 years ago

      धन्यवाद मित्र।…….आपका आभार। प्रयास था सफल हुआ।

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?