बार बार नफरत के उन रास्तों पर

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

झूठी उम्मीद रखकर किसी से, शायद ही किसी दिल का आंगन महका होगा,
बार-बार नफरत के उन रास्तों पर, शायद एक बार तो मन भी थोङा बहका होगा !!
आदर्श प्यार के आशिकों का सच तो पता नही, पर अंदाजा यही लगाता हूँ,
सच्चा होगा तो शायद उसी ने, दूसरे से प्रेम की दुआ में पहले सिक्का फेका होगा !!
~कविश कुमार

Jhoothi ummeed rakhkar kisi se, shayad hi kisi dil ka aangan mehka hoga,
baar-baar nafrat ke un raaston par, shayad ek baar to man bhi thoda behka hoga !!
Aadarsh pyaar ke aashiko’n ka sach to pata nahi, par andaza yahi lagata hoon,
saccha hoga to shayad usi ne, doosre se prem ki dua mein pehle sikka feka hoga !!
~Kavish Kumaar

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?