बचपन भी कितना हसीन था

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

बचपन भी कितना हसीन था,
न किसी के आने की ख़ुशी,
न किसी के जाने का गम !!
हर एक पल को,
जी लिया करते थे हम !!

भोली सी जान,
भोली सी आदत थी !!
याद आती है,
वो पल भर की जो चाहत थी !!

आज भी,
याद आते हैं वो दिन !!
जब नहीं,
शुरू होती थी सुबह माँ के बिन !!

होठों पर मुस्कान,
आँखों में मासूमियत थी !!
और वक़्त ने छीन ली,
उसकी जो नज़ाकत थी !!

कहाँ खो गए वो दिन,
जिससे हमें प्यार था !!
यूँ ही लगता है जैसे,
वो बचपन कल ही तो आया था !!
~अंकिताशा मिश्रा

Bachpan Bhi Kitna Haseen Tha

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Bachpan Bhi Kitna Haseen Tha,
Na Kisi Ke Aane Ki Khushi,
Na Kisi Ke Jaane Ka Gam !!
Har Ek Pal Ko,
Jee Liya Karte The Ham !!

Bholi Si Jaan,
Bholi Si Aadat !!
Yad Aati Hain,
Wo Pal Bhar Ki Chahat !!

Aaj Bhi,
Yaad Aate Hain Wo Din !!
Jab Nahi
Shuru Hoti Thi Subah Maa Ke Bin !!

Hoothon Par Muskaan,
Akho’n Mein Masoomiyat Thi !!
Aur Waqt Ne Cheen Li,
Uski Jo Nazakat Thi !!

Kahan Kho Gaye Wo Din,
Jisse Hume Pyaar Tha !!
Yu Hi Lagta Hai Jaise,
Wo Bachpan Kal Hi To Aya Tha !!
~Ankitasha Mishra

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?