भारत के वीर

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

गर्वित कर डाला भारत के शेरों ने
दुश्मन का लहू बहाकर के।
सियारों को ढूंढकर के मारा,
उनके घर में जाकर के।

हमारे सोते शेरों को मार,
दुश्मन यूँ बौराय रहा।
गलती अपनी मानी नहीं,
हमकों ही धमकाय रहा।

उसकी गीदड़ धमकी से,
देश नहीं डरने वाला।
उठी तभी फिर सबके दिल में,
प्रतिशोध की इक ज्वाला।
हर मोर्चे पर घेर कर भारत ने
छीन लिया उसका निवाला।
सिंधु, सार्क, UN, जैसे हर
मुद्दे से अलग थलग कर डाला।

अब वक़्त था अपने वीर,
17 शेरों का बदला लो।
उसके मुंह में मार कर मुक्का
दांत सब तुम तोड़ दो।
56 इंच की छाती का तब
मान बड़ा हो जायेगा।
जब दुश्मन अपनी धरती पर,
थर थर यूँ थर्रायेगा।

वक़्त हमारा, दिन हमारा
गोली हमारी ही होगी।
घर में घुसकर इलाज करेंगे,
जैसी भी बीमारी होगी।
शिकार कुत्तों का हमारी जमीं पर
हमको नहीं गवारा है।
इसीलिए इन कुत्तों को इस बार
इनकी जमीं पे ही मारा है।

एक के बदले दो को मारा,
पागल हो गया दुश्मन बेचारा।
सहन नही कर पा रहा है,
फिर से वो बोखला रहा है।
पर जंग छिड़ी इस बार तो सुन ले,
तेरा ही नामु निशां मिट जाएगा।
ले तिरंगा हाथ में अपने तू भी,
भारत माता की जय गायेगा।

मस्तक ऊँचा कर दिया भारत माता का,
तिरंगा वहाँ पर लहराकर के।
छठी का दूध याद दिला दिया उनको,
उनके घर में जाकर के।

गर्वित कर डाला भारत के शेरों ने
दुश्मन का लहू बहाकर के।
सियारों को ढूंढकर कर मारा,
उनके घर में जाकर के ….
~देवांश राघव

Garvit kar dala bharat ke shero’n ne
dushman kaa lahoo bahaakar ke.
Siyaro’n ko dhoondhkar ke mara,
unke ghar mein jaakar ke.

Hamaare sote shero’n ko maar,
dushman yoon bauraay raha.
Galti apni maane nahi,
hamko hi dhamkaay raha.

Uski geedad dhamaki se,
desh nahi darne vala.
Uthi tabhi fir sabke dil mein,
pratishodh ki ik jwaala.
Har morchey par gher kar bharat ne
chheen liyaa uskaa nivala.
Sindhu, saark, UN, jaise har
mudde se alag thalag kar daalaa.

Ab waqt tha apne veer,
17 shero’n ka badla lo.
Uske munh mein mar kar mukkaa
daant sab tum tod do.
56 inch kee chaati ka tab
maan bada ho jaayega.
Jab dushman apni dharti par,
thar thar yoon tharraayegaa.

Waqat hamara, din hamara
goli hamari hi hogi.
Ghar mein ghuskar ilaaj karenge,
jaisi bhi beemari hogi.
Shikaar kutto’n ka hamari jameen par
hamko nahin gavara hai.
Isiliye in kutto’n ko is baar
inki zameen pe hi mara hai.

Ek ke badle do ko mara,
pagal ho gaya dushman bechara.
Sehan nahi kar pa raha hai,
phir se vo bokhala raha hai.
Par jung chidi is baar to sun le,
tera hi naamu nishaan mit jayega.
Le tiranga haath mein apne tu bhi,
bharat mata ki jai gayega.

Mastak ooncha kar diyaa bharat mataa ka,
tiranga wahan par laharakar ke.
Chhathee ka doodh yaad dilaa diya unko,
unke ghar mein jakar ke.

Garvit kar dala bharat ke shero’n ne
dushman ka lahu bahakar ke.
Siyaaro’n ko dhoondhkar ke mara,
unke ghar mein jaakar ke ….
~Devansh Raghav

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
2 Comments
  1. NiVo (Nitin Verma) 3 years ago

    हर शब्द में बदले की आग झलक रही है .. उरी के शहीदों को और बदला लेने वाले इन जवानों को शत शत नमन ।

    • Author
      devansh raghav 3 years ago

      धन्यवाद नितिन जी बस एक प्रयास था ये…….दुश्मन के मुंह पर तमाचा जड़ने के लिए। सफल हुआ। धन्यवाद।

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?