दूसरे लम्हें का पता दे गया

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

न जाने क्या, आज एक लम्हा,
मुझसे आकर कह गया !!
लेकर मेरे दिल को,
वो कहीं और जाकर ठहर गया !!
धड़कने मेरी अब,
किसी और दिल के लिए धड़कने लगी है !!
कह कर इतना मुझे,
जीने की वो एक नयी वजह दे गया !!

जिंदगी थी मेरी बेरंग,
उनमें ख़ुशी के रन भर गया !!
आँखों में जो कभी आंसू थे,
उनमें एक नयी चमक भर गया !!
पूछने लगा मैं,
जब उस लम्हे से उनका पता !!
तो मेरी आखें बंद कर,
वो उनकी तस्वीर दिखा गया !!

चेहरे में उनके इतना नूर था,
की मैं आखें ही न खोल सका !!
देखता रहा उनको और बस,
उनके ही ख्यालों में खो गया !!
उस लम्हे से मैंने जब,
उनके दिल का हाल पूछा !!
मुस्कुरा कर देख वो मेरी और,
एक दूसरे लम्हें का पता दे गया !!
~सचिन शर्मा

Doosre Lamhe Ka Pta De Gaya

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Na Jane Kya, Aaj Ek Lamha,
Mujhse Aakar Keh Gaya !!
Lekar Mere Dil Ko,
Wo Kahin Aur Jakar Theher Gaya !!
Dhadkane Meri Ab,
Kisi Aur Dil Ke Liye Dhadakne Lagi Hai !!
Keh Kar Itna Mujhe,
Jeene Ki Wo Ek Nayi Vajah De Gaya !!

Zindagi Thi Meri Berang,
Unme Khushi Ke Rang Bhar Gaya !!
Ankho Mein Jo Kabhi Aansu The,
Unme Ek Nayi Chamak Bhar Gaya !!
Poochne Laga Main,
Jab Us Lamhe Se Unka Pata !!
Toh Meri Ankhen Band Kar,
Wo Unki Tasveer Dikha Gaya !!

Chehre Mein Unke Itna Noor Tha,
Ki Main Ankhe Hi Na Khol Saka !!
Dekhta Raha Unko Aur Bas,
Unke Hi Khyalon Mein Kho Gaya !!
Us Lamhe Se Maine Jab,
Unke Dil Ka Haal Poocha !!
Muskurakar Dekh Wo Meri Aur,
Ek Doosre Lamhe Ka Pata De Gaya !!
~Sachin Sharma

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?