फिरोजाबाद की गलियाँ देखो

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

फिरोजाबाद की गलियाँ देखो,
यूपी की रंग-रलियाँ देखो,
चन्द्रमा की रोशनी की ठंडक से भी ठंडा न होता,
वहां का जीवन,
लोगो का वो सुहाग बनती,
अपने आप को है जलती,
अरे फिरोजाबाद की गलियाँ देखो,
यूपी की रंग-रलियाँ देखो !!

बच्चे भी है माँ के साथ जाते,
पढने को वे तरस जाते !!
तपते-तपते वे खत्म हो जाते,
अरे फिरोजाबाद की गलियाँ देखो,
यूपी की रंग-रलियाँ देखो !!

अंधेरी सी है वहां की जिन्दगी,
पर प्रकाश भी आता, है झुल्स्ती आग का,
आग में बैठे बच्चे जल जाते,
लोगों के लिये चूड़ियाँ बनाते,
फिरोजाबाद की गलियाँ देखो,
यूपी की रंग-रलियाँ देखो !!

बच्चे के अगर खरोच भी आती,
तो माँ दौडी-भागी आती,
बच्चो को वहां कौन बचाता,
झुल्स्ती आग में वह मर जाता,
बाल मजदूरी कर बच्चों का जीवन खत्म हो जाता,
फिरोजाबाद में उन्हें कौन बचाता,
अरे! फिरोजाबाद की गलियाँ देखो,
यूपी की रंग-रलियाँ देखो !!

जरा ध्यान से सुनिए अखिलेश यादव जी,
बच्चो औरतों की दुहाई,
इनको दो जीवन की कोई दवाई,
फिरोजाबाद की आग को देखो,
यूपी के आप भाग को देखो,
गुरसेवक सिंह ये लिख कर बतलाता,
फिरोजाबाद को राहत पहुंचाता,
अरे! फिरोजाबाद की गलियाँ देखो,
यूपी की रंग-रलियाँ देखो !!….
~गुरसेवक सिंह पवार जाखल

firozabad ki galiya dekho,
up ki rang-raliya dekho !!
chanderma ki roshni ki thandak se bhi thanda na hota,
wahan ka jeevan,
logo ka wo suhag banti,
apne aap ko hai jalti,
arey firozabad ki galiya dekho,
up ki rang raliya dekho !!

bache bhi hai maa ke saath jaate,
padhne ko ve taras jaate !!
tapte tapte ve khatam ho jaate,
arey firozabad ki galiya dekho,
up ki rang raliya dekho !!

andheri si hai wahan ki zindgi,
par prakash bhi aata, hai jhulsti aag ka,
aag mein baithe bacche jal jaate,
logo ke liye chudiya banante,
firozabad ki galiya dekho,
up ki rang raliya dekho !!

bacche ke agar kharoch bhi aati,
toh maa dodi bhaagi aati,
baccho ko wahan kon bachata,
jhulsti aag mein veh mar jata,
baal mazdoori kar baccho ka jeevan khatam ho jata,
firozabad mein unhe kon bachata,
arey! firozabad ki galiya dekho,
up ki rang raliya dekho !!

dhyaan se suniye akhilesh yadav ji,
baccho aurto ki duhai,
inko do jeevan ki koi dawai,
firozabad ki aag ko dekho,
up ke aap bhaag ko dekho,
Gursevak Singh ye likh kar batlata,
firozabad ko rahat pahuchata,
arey firozabad ki galiya dekho,
up ki rang raliya dekho !!
~Gursevak Singh Pawar Jakhal

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
2 Comments
  1. NiVo (Nitin Verma) 2 years ago

    वाह! बहुत खूब ।… फ़िरोज़ाबाद बाद की गलियों की दशा शब्दों में दिखा दी …

  2. Rashi Sharma 2 years ago

    फ़िरोज़ाबाद की गलियों के बारे में बिलकुल सही बताया आपने ।

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?