भेड़िया छुपा रहनुमा के भेष में

भेड़िया छुपा रहनुमा के भेष में

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

बहुत उपद्रवी मिल गए हृदयेश में,
जो बेवजह आग लगाते स्वदेश में !!

हो जाएगा सब राख यूँ ही जल कर,
फिर कुछ न बचेगा हमारे देश में !!

विनम्रता से सभी को समझाना होगा,
अक्सर रिश्ते टूट जाते अंदेश में !!

हो भड़काऊं भाषण तो पहचान लेना,
भेड़िया छुपा रहनुमा के भेष में !!

अपना पक्ष रखना है सभी का अधिकार,
मगर इक निश्चित संवैधानिक निर्देश में !!

भगवा, हरा, इन्हें तुम बस रंग समझना,
वरना बड़ी सियासत है इस संदेश में !!

कीचड़ से भी बदतर हो चुकी है राजनीति ‘नीवो’,
मुझे तो पिशाच दिखे इन दरवेश में !!
©नीवो

Bhediya Chupa Rehnuma Ke Bhesh Mein

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Bahut Updravi Mil Gaye Hridyesh Mein,
Jo Bewajah Aag Lagaate Swadesh Mein !!

Ho Jayega Sab Raakh Yuhi Jal Kar,
Kuch Na Bachega Hamare Desh Mein !!

Vinamrata Se Sabhi Ko Samjhaana Hoga,
Aksar Rishte Toot Jaate Andhesh Mein !!

Ho Bhadkau Bhaasan To Pehchan Lena,
Bhediya Chupa Rehnuma Ke Bhesh Mein !!

Apna Paksh Rakhna Hai Sabhi Ka Adhikaar,
Magar Ik Nishchit Samvaidhanik Nirdesh Mein !!

Bhagwa, Hara, Inhe Tum Bas Rang Samjhna,
Warna Badhi Siyasat Hai Is Sandesh Mein !!

Kichad Se Bhi Badtar Ho Chuki Hai Rajneeti ‘Nivo’,
Mujhe Toh Pishaach Dikhe In Darvesh Mein !!
©Nivo

इस पोस्ट के लेखक

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of

Made with in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in With Your Details

or    

Forgot your details?

Create Account