ग़ज़ल मुक़म्मल कैसे लिखूँ

ग़ज़ल मुक़म्मल कैसे लिखूँ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

न शब्द है, न एहसास है,
भाव मुफ़स्सल कैसे लिखूँ !!

बहुत कुछ है अधूरा यहां तो,
ग़ज़ल मुक़म्मल कैसे लिखूँ !!

कहने को हर बंदा खुदा का,
उसको छल-बल कैसे लिखूँ !!

खिलता हो कमल जहां तो,
कीचड़ दल-दल कैसे लिखूँ !!

शुष्क पड़ा है शहर मेरा तो,
शायरी मख़मल कैसे लिखूँ !!

पसंद नहीं जब पढ़ना यहां तो,
“नीवो” मुसलसल कैसे लिखूँ !!
©नीवो

Gazal Mukammal Kaise Likhu

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Na Shabd Hai, Na Ehsaas Hai,
Bhaav Mufassal Kaise Likhu !!

Bahut Kuch Hai Adhoora Yahan Toh,
Gazal Mukammal Kaise Likhu !!

Kehne Ko Har Banda Khuda Ka,
Usko Chal-bal Kaise Likhu !!

Khilta Ho Kamal Jahan To,
Keechad Dal-dal Kaise Likhu !!

Shushk Pdha Hai Shehar Mera Toh,
Shayari Makhmal Kaise Likhu !!

Pasand Nahi Jab Padhna Yahan To,
“Nivo” Musalsal Kaise Likhu !!
©Nivo

इस पोस्ट के लेखक

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of

Made with in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in With Your Details

or    

Forgot your details?

Create Account