इंसान इसी सोच में खुदगर्ज़ हो गया

इंसान इसी सोच में खुदगर्ज़ हो गया

इंसान इसी सोच में खुदगर्ज़ हो गया
बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

शिक्षा का, मकान का, दुकान का,
जरूरतों के हिसाब से कर्ज़ हो गया !!
“बस भर दूं अब तो EMI जैसे – तैसे”,
इंसान इसी सोच में खुदगर्ज़ हो गया !!
©नीवो

Insaan Isi Soch Mein Gudgarz Ho Gaya

इंसान इसी सोच में खुदगर्ज़ हो गया
Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Shiksha Ka, Makaan Ka, Dukaan Ka,
Jarooraton Ke Hisaab Se Karz Ho Gaya !!
“Bas Bhar Du Ab Toh EMI Jaise-Taise”,
Insaan Isi Soch Mein Gudgarz Ho Gaya !!
©Nivo

इस पोस्ट के लेखक

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of

ABOUT

'Poems Bucket' is a social platform for you young, enthusiast and passionate poets and writers.

FOLLOW Us ON

JOIN US ON WHATSAPP

Note: Please mention your name and preferred language while joining us on WhatsApp.

CONTENT BY LANGUAGE

Made with in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in With Your Details

or    

Forgot your details?

Create Account