क्यों ऐसा संविधान लिखा है

2 साल, 11 महीने, 18 दिन,
बनाया एक ऐसा जिन !!
मंत्री और सांसद ही,
बन गए इसके अल्लादीन !!

खूब करा खर्चा,
खूब भरा पर्चा !!
तब जाकर-
395 अनुच्छेद, 8 अनुसूची, 22 हिस्से वाला,
एक महान ग्रन्थ हुआ तैयार !!
वाकिफ न थे बाबा साहेब,
कि इसकी आड़ में होगा व्यापार !!

व्यापार होगा जनता को दलित, ऊँच, नीच में बांटने का,
हिन्दू – मुस्लिम को आपस में लड़ाने का !!
राम मंदिर की आड़ में,
व्यापार होगा सत्ता की कुर्सी पाने का !!

कुर्सी पाते ही अपने मूल कर्तव्य भूल जाते,
किसान, युवा, जनता से किये वादें,
संसद के किसी कोने में, धुल खाते !!

मूर्ख हम ही है जिन्होंने,
दूध की रखवाली के लिए !!
बिलोटो को पहरेदार बनाया,
अनपढ़, चोर, गुंडों को,
संसद के अंदर बैठाया !!

यहाँ मंत्री, 10 काम गलत करके,
एक अच्छे काम का खूब गुणगान करता है !!
मन में पाल रहा सांप और
दफ्तर के बाहर “मेरा भारत महान” लिखता है !!

गलती आपकी नहीं बाबा साहेब,
आपने सोचकर भारत का सम्मान लिखा है !!
युवा को रोजगार, महिला को सुरक्षा,
सबके लिए अच्छा विधान लिखा है !!

लेकिन! दलाल बन गए जो सत्ता के लालच में,
उन्होंने अपने ईमान को बेईमान लिखा है !!
कागज़ पर एकता, अखंडता, बंधुत्व भाव लिखा है,
फिर क्यों जाती धर्म के आधार पर इंसान लिखा है !!

कहने को गणतंत्र हिन्दुस्तान लिखा है,
लोकतंत्र हमारा अभिमान लिखा है !!
समान होकर भी समान नहीं लोग जहाँ,
फिर क्यों ऐसा संविधान लिखा है !!
~नीवो (नितिन वर्मा)

2 Saal, 11 Mahine, 18 Din,
Banaya Ek Aisa Jin !!
Mantri Aur Saansad Hi,
Ban Gaye Iske Alladin !!

Khoob Kra Kharcha,
Khoob Bhra Parcha !!
Tab Jaakar-
395 Anuchedh, 8 Anusoochi, 22 Hisse Wala,
Ek Mahan Granth Hua Tyaar !!
Wakif Na The Baba Saheb,
Ki Iski Aad Mein Hoga Vyapaar !!

Vyapaar Hoga Janta Ko Dalit, Oonch, Neech Mein Baatne Ka,
Hindu Muslim Ko Apas Mein Ladaane Ka !!
Ram Mandir Ki Aad Mein,
Vyapaar Hoga Satta Ki Kursi Paane Ka !!

Kursi Paatein Hi Apne Mool Kartavye Bhool Jaate,
Kisan, Yuva, Janta Se Kiye Waayedein,
Sansad Ke Kisi Kone Mein Dhool Khaate !!

Moorkh Ham Hi Hai Jinhone,
Doodh Ki Rakhwali Ke Liye,
Biloto Ko Pehredaar Banaya !!
Andpad, Chor, Gundo Ko,
Sansad Ke Ander Baithaya !!

Yahan Mantri, 10 Kaam Glt Karke,
1 Acche Kaam Ka Khoob Gungaan Karta Hai !!
Mann Mein Paal Raha Sanp Aur,
Daftar Ke Bahar “Mera Bharat Mahaan” Likhta Hai !!

Galti Nahi Baba Saheb Tumhari,
Aapne Soch Kar Bharat Ka Sammaan Likha Hai !!
Yuva Ko Rojgar, Mahila Ko Suraksha,
Sabke Liye Accha Vidhaan Likha Hai !!

Lekin! Dalal Ban Gaye Jo Satta Ke Lalach Mein,
Unhone Apne Imaan Ko Baimaan Likha Hai !!
Kagaz Par Ekta, Akhandta, Bhandutv Bhaav Likha Hai,
Asal Mein Jaati, Dharm Ke Aadhar Par Insaan Likha Hai !!

Kehne Ko Gadtantr Hindustan Likha Hai !!
Loktantr Hamara Abhimaan Likha Hai !!
Samaan Hokar Bhi Samaan Nahi Log Jahan,
Phir Kyon Aisa Samvidhan Likha Hai !!
~Nivo (Nitin Verma)

Tags:

इस पोस्ट के लेखक

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of

Made with in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in With Your Details

or    

Forgot your details?

Create Account