तिरंगे का कफ़न कर दे

तिरंगे का कफन कर दे

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

ऐ मालिक, सिर्फ इतना-सा मुझपर तू करम कर दे,
मुझे सनम से प्यारा मेरा वतन कर दे !!

कर दूँ निछावर तन-मन-धन सब अपना,
इतनी प्रज्वलित मुझमें राष्ट्रप्रेम की अगन कर दे !!

संकुचित न होऊँ क्षणभर भी सरफ़रोश बनने को,
ऐसी मनोवृत्ति का, मेरे ज़हन में जनम कर दे !!

अस्तित्व मिट जाए दहशतवादी नर-पिशाचों का इस धरा से,
और परे हो जाए मुल्क से गद्दारी की सोच भी ऐसे उसे तू दफन कर दे !!

मेरी माँ के आँचल के तले चैन से सो सकूँ मैं,
ऐसे विदा होने पर, अता मुझे मेरे तिरंगे का कफन कर दे !!
ऐ मालिक, सिर्फ इतना-सा मुझपर तू करम कर दे !!
~सचिन अ. पाण्डेय

Tirange Ka Kafan Kar De

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

E-maalik, Sirf Itna Sa Mujhpar Tu Karam Kar De,
Mujhe Sanam Se Pyara Mera Vatan Kar De !!

Kar Du Nichavar Tan-man-dhan Sab Apna,
Itni Prajvalit Mujhme Rashtrprem Ki Agan Kar De !!

Sankuchit Na Hou Shanbhar Bhi Sarfarosh Banne Ko,
Aisi Manovriti Ka, Mere Jehen Mein Janam Kar De !!

Astitv Mit Jaaye Dehshatvaadi Nar-pishacho Ka Is Dhra Se,
Aur Pare Ho Jaaye Mulk Se Gaddari Ki Soch Bhi Aise Use Tu Dafan Kar De !!

Meri Maa Ke Aanchal Ke Tale Chain Se So Saku Main,
Aise Vida Hone Par, Ata Mujhe Mere Tirange Ka Kafan Kar De !!
E-maalik, Sirf Itna Sa Mujhpar Tu Karam Kar De !!
~Sachin A. Pandey

Tags:

इस पोस्ट के लेखक

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of

Made with in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in With Your Details

or    

Forgot your details?

Create Account