वीर जावानों की गाथाएँ तुमको आज सुनाता हूँ

वीर जवानों के गाथाएं तुमको आज सुनाता हूँ

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

वीर जवानों की गाथायें,तुमको आज सुनाता हूँ,
तूफानों में डटे रहे जो ,उनको शीश झुकाता हूँ !!
कर्मपथ के वे अनुरागी ,मैं तो उनका दास हूँ,
उनकी ही आजादी में ,लेता खुलकर साँस हूँ !!
भारत माँ के प्रणय हेतु ,करता ये अहसास हूँ,
गाकर गाथा उन वीरों की ,मन से मैं मुस्काता हूँ !!
वीर जवानों की गाथायें,तुमको आज सुनाता हूँ !!

चढ़ चेतक पर राणा प्रताप ,हर-हर बम-बम बोले थे,
काँप उठा था शत्रु सारा ,वीर शिवा जब डोले थे !!
मंगल पांडे की चिंगारी ,रंग आजादी लाई थी,
लक्ष्मीबाई भी बन काली ,अंग्रेजों पर छाई थी !!
राजगुरु सुखदेव भगत ने, फांसी गले लगाई थी,
शेखर की पिस्तौल के आगे, नतमस्तक हो जाता हूँ !!
वीर जवानों की गाथायें,तुमको आज सुनाता हूँ !!

गोविंदसिंह का बाज उडा था ,फुर-फुर-फुर-फुर नभ में ;
ऊधमसिंह भी कूद पड़ा था , आजादी की जंग में;
तात्यां ने भी मरघट भेजा ,अंग्रेजों को रण में !!
पंजाब केसरी की केसर की,मधुर सुगन्धी फैली थी,
लोह पुरुष की आँखें भी ,अंगारो सी दहकी थी !!
दुश्मन का सीना चीर धरे जो,उनकी गाथा बताता हूँ,
वीर जवानों की गाथायें,तुमको आज सुनाता हूँ !!

नेताजी के सम्भाषण की,एक अनोखी मौज थी,
वीर बांकुरों से अलंकृत, आजाद हिन्द फ़ौज थी,
आजादी के मतवालों की ,बढ़ती हिम्मत रोज थी !!
रणभूमि में गर्जन करता, ऐसा सिंह एक था,
भारत माँ की आजादी का उसका सपना नेक था !!
खून के बदले आजादी की ,पहेली एक बुझाता हूँ,
वीर जवानों की गाथायें,तुमको आज सुनाता हूँ !!
~सुरेशपाल वर्मा ‘जसाला’

Veer Jawano ki gathayein, tumko aaj sunata hu,
toofano mein date rahe jo, unko sheesh jhukata hu !!
karmpath ke ve anuragi, main to unka das hu,
unki hi azadi mein, leta khulkar sans hu !!
bharat maa ke pranye hetoo, karta ye ehsaas hu,
gaakar gatha un veero ki, man se main muskata hu !!
Veer Jawano ki gathayein, tumko aaj sunata hu !!

Chad chetak par Rana Pratap, har-har bam-bam bole the,
kaamp utha tha shatroo sara, veer Shiva jab dole the !!
Mangal Pandey ki chingaari, rang azadi lai thi,
Laxmibai bhi ban kaali, angrezo par chai thi !!
Rajguru Sukhdev Bhagat ne, faansi gale lagai thi,
Shekhar ki pistol ke aagey, natmastak ho jata hu !!
Veer Jawano ki gathayein, tumko aaj sunata hu !!

Govind Singh ka baaj uda tha, fur-fur-fur-fur nab mein;
Udham Singh bhi koodh pda tha, azadi ki jang mein;
Tyatyan ne bhi marghat bheja, angrezo ko ran mein !!
panjab kesari ki kesar ki, madhur sughandhi faili thi,
loh purush ki ankhe bhi, angaro si dehki thi !!
dushman ka seena cheer dhare jo, unki gatha btata hu,
Veer Jawano ki gathayein, tumko aaj sunata hu !!

Netaji ke sambhasan ki, ek anokhi maoj thi,
veer bankuru se alankrit, azaad hind fauz thi,
azadi ke matwalo ki, badti himmat roz thi !!
ranbhoomi mein garjan karta, aisa singh ek tha,
bharat maa ki azadi ka, uska sapna nek tha !!
khoon ke badle azadi ki, paheli ek bhujata hu,
Veer Jawano ki gathayein, tumko aaj sunata hu !!
~Sureshpal Verma ‘Jasala’

Tags:

इस पोस्ट के लेखक

3
Leave a Reply

avatar
3 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
3 Comment authors
Tina vermaLalu solankidevansh raghav Recent comment authors
  Subscribe  
newest oldest
Notify of
Tina verma
Guest
Tina verma

Superb poem
Very nice

Lalu solanki
Guest
Lalu solanki

Super poem

devansh raghav
Member

उत्तम अति उत्तम……..सलाम है आपकी लेखिनी को।……..

Made with in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?