इंसानियत जैसे ज़मीन के अंदर सो गई है

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

जिंदा रहने के लिए भी, आज मरना जरूरी है,
कि ये दुनिया लाशो की शौक़ीन हो गई है !!
आँखें बंद कर के तमाशा देख रहा है इंसान,
इंसानियत जैसे ज़मीन के अंदर सो गई है !!
~विजय कुमार खेमका

Zinda Rehne Ke Liye Bhi, Aaj Marna Jaruri Hai,
Ki Ye Duniya Lasho Ki Shaukin Ho Gayi Hai !!
Aankhein Band Kar Ke Tamasha Dekh Raha Hai Insaan,
Insaniyat Jaise Zameen Ke Andar So Gayi Hai !!
~Vijay Kumar Khemka

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
1 Comment
  1. devansh raghav 3 years ago

    वाह अतुलनीय शब्द और पंक्तियाँ।…….

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?