जरुरत नहीं

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

मुझे किसी की परवाह की जरुरत नहीं,
खुश हूँ किसी की वाह की जरुरत नहीं !!

बनाया है अपनी दुनिया का आशियाना,
सर झुकाने और पनाह की जरुरत नहीं !!

अब ख्वाइशे और उम्मीदे किसी से कहाँ,
प्यार और किसी की चाह की जरुरत नहीं !!

वक़्त के साथ पायी है मंज़िल मैंने,
चुना है रास्ता खुद ही राह की जरुरत नहीं !!

काश वो भी समझ पाता मेरे दिल की धड़कन,
ऐसे हमसफ़र और गुमराह की जरुरत नहीं !!
~कमल कर्मा “के.के.”

Jaroorat Nahi

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Mujhe Kisi Ki Parwah Ki Jaroorat Nahi,
Khush Hu Kisi Ki Waah Ki Jaroorat Nahi !!

Banaya Hai Apni Duniya Ka Ashiana,
Sar Jhukana Aur Panah Ki Jaroorat Nahi !!

Ab Khwaishein Aur Umeede Kisi Se Kahan,
Pyaar Aur Kisi Ki Chaah Ki Jaroorat Nahi !!

Waqt Ki Saath Paayi Hai Manjil Maine,
Chuna Hai Raasta Khud Hi Raah Ki Jaroorat Nahi !!

Kaash Wo Bhi Samajh Pata Mere Dil Ki Dhadkan,
Aise Hamsafar Aur Gumrah Ki Jaroorat Nahi !!
~Kamal Karma “K.K.”

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?