ख़ामोशी की इन बातों को

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

लहरें शांत है तो क्या हुआ,
इसके समुन्दर की गहराई को समझो !!
माना लब हमारे खामोश है,
पर इसमें छिपी सच्चाई को समझो !!

जब कभी मिलो तो,
देखना इन आँखों को !!
समझो तुम भी कभी,
ख़ामोशी की इन बातों को !!

बातें ये वो है,
जो कभी तुमसे कह न पाये !!
बस खता हमारी इतनी रही,
इसे इशारो में समझा न पाये !!

वक़्त मिले तो कभी,
याद करना हमारी मुलाकातों को !!
बिताया चन्द लम्हा ही सही,
पर ख्वाब बुनता रहा रातों को !!

लब खामोश है तो क्या हुआ,
समझो इन एहसासों को…
ख़ामोशी की इन बातों को…
~नितिन वर्मा

Khamoshi Ki In Baato'n Ko

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Lehre Shaant Hai Toh Kya Huya,
Iske Samundr Ki Gehrai Ko Samjho !!
Mana Lab Hamare Khamosh Hai,
Par Isme Chipi Sacchai Ko Samjho !!

Jab Kabhi Milo Toh,
Dekhna In Ankho’n Ko !!
Samjho Tum Bhi Kabhi,
Khamoshi Ki In Baato’n Ko !!

Baatein Ye Wo H,
Jo Kabhi Tumse Keh Na Paaye !!
Bas Khta Hamari Itni Rhi,
Ise Isharo Mein Smjha Na Paaye !!

Waqt Mile Toh Kabhi,
Yaad Karna Hamari Mulakato’n Ko !!
Bitaya Chnd Lamha Hi Sahi,
Par Khwaab Boonta Rha Raato’n Ko !!

Lab Khamosh Hai Toh Kya Huya,
Samjho In Ehsaso Ko…
Khamoshi Ki In Baato’n Ko…
~Nitin Verma

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?