माँ ही जीवन है

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

माँ ही जन्मदात्री, जीवन की पहली झंकार है,
माँ ही जीवन है, माँ में सिमटा सारा संसार है !!
पहले प्रेम की पहली मूरत, नि:स्वार्थ प्रेम की संदर्भ है,
पालन कर्ता खुद में ही, माँ का अखंड गर्भ है !!

सब भावों से समझौता कर, कभी कुछ न कहती है,
बच्चे के नवजीवन पर, सबसे भारी पीड़ा सहती है !!
अन्न प्राशन्न के पहले ही, माँ का दूध पहला संस्कार है,
माँ ही जीवन है, माँ में सिमटा सारा संसार है !!

माँ में ही भागवत है, माँ ही कुरान है,
माँ ही ममता की मूरत है, वात्सल्य का पुराण है !!
हर सुबह की पहली आवाज, माँ ही मीठा कलरव है,
नन्हे बच्चे के नाजुक होंठों पर, माँ ही पहला स्वर है !!

माँ ही पहला स्पर्श है, माँ काले टीके का श्रंगार है,
माँ ही पहली भाषा है, माँ ही जायज फटकार है !!
तकलीफ की वेदना पर, माँ ही थपकी देती है,
पहले बच्चे को सुलाती है, फिर खुद झपकी लेती है !!

बच्चे की मुसीबतों पर, माँ ही शाश्वत ताबीज है,
मेरा बच्चा गलत नही है, ऐसी माँ की तासीर है !!
गरम हिलोरे खाती जिंदगी में, माँ शीतल मेघ मल्हार है,
माँ ही माथे का चंदन, माँ ही अटूट बंधन का हार है !!

माँ ही शुभारंभ श्रीफल है, माँ ही शगुन की दही कटोरी है,
बच्चे के लिए जागती रात है, माँ ही चंदामामा की लोरी है !!
सर पर हाथ नही माँ का, देखो उसकी क्या हालत है,
ममत्व की जिसको कदर नही, उसको दोजख़ में भी लालत है !!
माँ से ही किलकारी है, माँ से ही जन्म संस्कार है,
माँ ही जीवन है, माँ में सिमटा सारा संसार है !!
~कविश कुमार

Maa Hi Jeevan Hai

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Maa Hi Janmdatri, Jeevan Ki Pehli Jhankar Hai,
Maa Hi Jivan Hai, Maa Mein Simta Sara Sansaar Hai !!
Pehle Prem Ki Pehli Moorat, Nihswarth Prem Ki Sandarbh Hai,
Paalan Karta Khud Mein Hi, Maa Ka Akhand Garbh Hai !!

Sab Bhaavo Se Samjhota Kar, Kabhi Kuch Na Kehti Hai,
Bacche Ke Navjeevan Par, Sabse Bhaari Peedha Sehti Hai !!
Ann Prashann Ke Pehle Hi, Maa Ka Doodh Pehla Sanskaar Hai,
Maa Hi Jivan Hai, Maa Mein Simta Sara Sansaar Hai !!

Maa Mein Hi Bhagwat Hai, Maa Hi Kuraan Hai,
Maa Hi Mamta Ki Murat Hai, Vatsalye Ka Puraan Hai !!
Har Subah Ki Pehli Aawaaz, Maa Hi Meetha Kalrav Hai,
Nanhe Bacche Ke Naajuk Hotho Par, Maa Hi Pehle Swar Hai !!

Maa Hi Pehla Sparsh Hai, Maa Kaale Teeke Ka Shringar Hai,
Maa Hi Pehli Bhasha Hai, Maa Hi Jayaz Fatkar Hai !!
Takleef Ki Vedna Par, Maa Hi Thapki Deti Hai,
Pehle Bacche Ko Sulati Hai, Phir Khud Jhapki Leti Hai !!

Bacche Ki Musibato Par, Maa Hi Shashvat Taabeej Hai,
Mera Baccha Galat Nhi Hai, Aisi Maa Ki Taaseer Hai !!
Garam Hilore Khati Zindgi Mein, Maa Sheetal Megh Malkar Hai,
Maa Hi Maathe Ka Chandhan, Maa Hi Atoot Bhandhan Ka Haar Hai !!

Maa Hi Shubharam Shrifal Hai, Maa Hi Shagun Ki Dahi Katori Hai,
Bacche Ke Liye Jaagti Raat Hai, Maa Hi Chandamama Ki Lori Hai !!
Sir Par Haath Nhi Maa Ka, Dekho Uski Kya Haalat Hai,
Mamtv Ki Jisko Kadr Nhi, Usko Dojakh Mein Bhi Lalat Hai !!
Maa Se Hi Kilkaari Hai, Maa Se Hi Janm Sanskaar Hai,
Maa Hi Jeevan Hai, Maa Mein Simta Sara Sansaar Hai !!
~Kavish Kumar

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?