माँ मैं तुझको खोना नहीं चाहती

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

माँ मैं तुझको खोना नहीं चाहती,
तुझे देख रोना नहीं चाहती !!
तुझसे जुड़ गया है दिल मेरा,
तुझे छोड़ कुछ पाना नही चाहती !!

तुम भी एक दिन बचपन में थी,
आज बुढ़ापे में हो क्यों सो जाती !!
यही देख मन ही मन तड़पती,
तेरे बिन पूरी दुनिया वीरान सी लगती !!
माँ में तुझको खोना नहीं चाहती,
तुझे देख रोना नहीं चाहती !!

सरसों के फूलों से ज्यादा पीला पड़ गया तेरा चेहरा माँ,
बुढ़ापे में झुर्रियों का तेरे उपर पड़ गया पहरा माँ !!
थक कर तुम जल्दी सो जाती,
माँ मैं तुझको खोना नहीं चाहती,
तुझे देख रोना नहीं चाहती !!

तेरे सिवा किसी को नहीं चाहती,
तेरे साथ ही में रहना चाहती !!
तेरे अनुभव को मैं कभी अनुभव नही कर पाती,
तुम अनुभव से सब दुख-दर्द छिपाती !!
मुझको खुश रखना तुम चाहती,
पर माँ मैं तुझको खोना नहीं चाहती !!
तुझे देख रोना नहीं चाहती !!

गुरसेवक सिंह की कविता यही बतलाती,
कि माँ मैं तुझको खोना नहीं चाहती,
तुझे देख रोना नहीं चाहती !
~गुरसेवक सिंह पवार जाखल

Maa main tujhko khona nahi chahti,
tujhe dekh rona nahi chahti !!
tujhse jud gya hai dil mera,
tujhe chod kuch pana nahi chahti !!

tum bhi ek dil bachpan mein thi,
aaj budhape mein ho kyon so jaati !!
yahi dekh man hi man tadapti,
tere bin poori duniya veeraan si lagti hai !!
Maa main tujhko khona nahi chahti,
tujhe dekh rona nahi chahti !!

sarso ke phoolo’n se jyada peela padh gya tera chehra maa,
budhape mein jhurriyo ka tere upar pad gya pehra maa !!
thak kar tum jaldi so jaati,
Maa main tujhko khona nahi chahti,
tujhe dekh rona nahi chahti !!

tere siwa kisi ko nahi chahti,
tere saath main rehna chahti !!
tere anubhav ko main kabhi anubhav nahi kar paati,
tum anubhav se sab dukh-dard chipaati !!
mujhko khush rekhna tum chahti,
par maa main tujhko khona nahi chahti !!
tujhe dekh rona nahi chahti !!

Gursevak Singh ki kavita yahi batlaati,
ki maa main tujhko khona nahi chahti,
tujhe dekh rona nahi chahti !!
~Gursevak Singh Pawar Jakhal

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
2 Comments
  1. Author

    Thanks a lot ji ….

  2. NiVo (Nitin Verma) 3 years ago

    माँ के स्वास्थ का बहुत अच्छा वर्णन किया आपने…. बहुत खूब।
    आगे इसी तरह और बेहतर पढ़ने की इच्छा इच्छा है… ☺

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?