मगर रूखे इस हुस्न को इश्क़

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

मरहम लगा दे ज़ख्मो पर,
तड़प रहा में तेरे लफ्ज़ो पर !!

एक रूप जड़ा था आँखों में,
बह रहा हैं आज अश्क़ों में !!

धूप पड़ी तेरे हाथों पर,
छवि बना दे मेरे हाथो पर !!

आँख लगी हैं तेरी आहट से,
ज़रा धड़कन बढ़ा दे तेरे होठो से !!

बेरूप से इन सुखों को पानी की ज़रूरत हैं,
भीगे इन नैनों को हाथों की ज़रूरत हैं !!

मुझे मंजूर नहीं इश्क़ की ये आंधी सी हवाएँ,
मगर रूखे इस हुस्न को इश्क़ की ज़रूरत हैं !!
~सीरवी प्रकाश पंवार

Magar Is Rookhe Husn Ko Ishq

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Marham Laga De Zakhmo Par,
Tadap Raha Main Tere Lafzo Par !!

Ek Roop Jda Tha Aakhno Mein,
Beh Raha Hai Aaj Ashko Mein !!

Dhoop Padhi Tere Haatho Par,
Chavi Bana De Mere Haatho Par !!

Aankh Lagi Hai Teri Aahat Se,
Zra Dhadkan Badha De Tere Hontho Se !!

Beroop Se In Sookho Ko Paani Ki Jaroorat Hai,
Bheege In Naino Ko Haatho Ki Jaroorat Hai !!

Mujhe Manjoor Nahi Ishq Ki Ye Aandhi Si Hawaye,
Magar Rookhe Is Husn Ko Ishq Ki Jaroorat Hai !!
~Seervi Prakash Panwar

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?