मगर मैदान में थी अकेली

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

साहब!
शहर में कुछ अशांति सी दिख रही,
कोई बोल रहा था कि,
जो किया वो अच्छा ही था,
मगर कोई बोल रहा हैं..

चौखट के बाहर निकाला ही क्यों?

अग़र टूट गयी कही तो,
हाथों की उम्मीद न होंगी !!
और अगर रो गयी कही तो,
सूखे गालों की उम्मीद न होंगी !!
यह राह तो जाना पहचाना था,
पर राही थी अकेली !!
सब कुछ तो अपना ही था,
मगर मैदान में थी अकेली !!

यहाँ आंखों के आशियाने लिए,
बहूत सारे बैठे होंगे !!
मग़र हो हर पल बेवफाई के पानी लिए,
आँखे भिगोने वाले होंगे !!
आकाश में उड़ता हुआ पंछी बारिश में,
बदलो की आहट में नहीं छुपता,
मग़र तेरी आदित्य रूह के लिए,
तेरे अपने भी खड़े होंगे !!
~सीरवी प्रकाश पंवार

Magar Maidan Mein Thi Akeli

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Sahab!
Shehar Mein Kuch Ashanti Si Dikh Rahi,
Koi Bol Raha Tha Ki,
Jo Kiya Wo Accha Hi Tha,
Magar Koi Bol Raha Hai…

Chokhat Ke Bahar Nikaalan Hi Kyon?

Agar Toot Gayi Kahin To,
Haatho Ki Umeed Na Hogi !!
Aur Agar Ro Gayi Kahin To,
Sookhe Gaalo Ki Umeed Na Hogi !!
Ye Raah To Jana Pehchana Tha,
Par Rahi Thi Akeli !!
Sab Kuch To Apna Hi Tha,
Magar Maidan Mein Thi Akeli !!

Yahan Aankhon Ke Aashiyane Liye,
Bahut Saare Baithe Honge !!
Magar Ho Har Pal Bewafai Ke Paani Liye,
Aankhein Bhigaane Wale Honge !!
Akash Mein Udhta Huya Panchi Barish Mein,
Badlo Ki Ahat Mein Nahi Chupta,
Magar Teri Aditya Rooh Ke Liye,
Tere Apne Bhi Khade Honge !!
~Seervi Prakash Panwar

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?