मेरा वजूद

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

मैं ज़िंदा हूँ! मेरा वजूद मिट चुका !
क्या मुझ में जान बाकी है?
जो इंसान को इंसान समझे,
क्या ऐसा कोई इंसान बाकी है?

कभी बाहर, कभी दफ़्तर,
कभी सुनसान सड़को से घबराना मेरा !
मैं भूल गयीं हूँ, अभी मेरे घर में मेहमान बाकी हैं !!

कुछ देर कुछ वादे किये, फिर कुछ कानून बना दिये,
मैंने मौन रहना छोड़ा, और हथियार नाख़ून बना लिए,
अब घर सुरक्षित नहीं लगता, गलियां सुनसान बाकी हैं !!

कब तक दूसरों के सहारे जियूँ,
कब तक समाज की बेड़ियों को सियूँ,
दीवारों से पार चीखें सुनते मेरे कान बाक़ी हैं !!

दर्द सहन छोड़ दिया, बोलना सीख लिया है,
बस सोचने लगीं हूँ मैं “गिरी”,
क्या इंसानियत दफ़्न हो चुकी है ?
या अभी भी कोई बेनक़ाब इंसान बाकी है !!
~गिरीश राम आर्य

Mera Vajood

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Main Zinda Hu! Mera Vajood Mit Chuka Hai!
Kya Mujh Mein Jaan Baaki Hai?
Jo Insaan Ko Insaan Samjhein,
Kya Aisa Koi Insaan Baaki Hai?

Kabhi Bahar, Kabhi Daftar,
Kabhi Sunsaan Sadko Se Ghabrana Mera!
Main Bhool Gayi Hu, Abhi Mere Ghar Mein Mehmaan Baaki Hai !!

Kuch Der Kuch Vaadey Kiye, Phir Kuch Kanoon Bana Diye,
Maine Maon Rehna Choda, Aur Hathiyaar Nakhoon Bana Liye,
Ab Ghar Surakshit Nahi Lagta, Galiya Sunsaan Baaki Hai !!

Kab Tak Doosro Ke Sahare Jiu,
Kab Tak Samajh Ki Bediyo Ko Siu,
Diwaaro Se Paar Cheekhe Sunte Mere Kaan Baaki Hai !!

Dard Sehen Chor Diya, Bolna Seekh Liya Hai,
Bas Sochne Lagi Hu Main “Giri”,
Kya Insaaniyat Dafn Ho Chuki Hai?
Ya Abhi Bhi Koi Benakaab Insaan Baaki Hai !!
~Girish Ram Aryah

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?