मिलजुल कर रहा करों यारों

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

चार दिन की तो ये जिंदगी हैं,
क्यों नफ़रत पालते हो यारों !!
हम पहले इंसान बनना तो सीख लें,
क्यों धर्म के नाम पर लड़ते हो यारों !!
हमारे रास्ते अलग अलग हो सकते हैं,
पर उस ख़ुदा को तो मत बांटो यारों !!
सुखबीर आपसे निवेदन करता है,
मिलजुल कर रहा करों यारों !!
~सुखबीर सिंह

Miljul Kar Raha Karo Yaaro

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Chaar Din Ki To Ye Zindgi Hai,
Kyon Nafrat Paalte Ho Yaaro !!
Ham Pehle Insaan Banna To Seekh Le,
Kyon Dharm Ke Naam Par Ladte Ho Yaaro !!
Hamare Raaste Alag Alag Ho Sakte Hai,
Par Us Khuda Ko To Mat Baato Yaaro !!
Sukhbir Aapse Nivedan Karta Hai,
Miljul Kar Raha Karo Yaaro !!
~Sukhbir Singh

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?