मुसाफ़िर ही तो थे मगर

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

जिंदगी के तराने लिए हम चल तो दिए,
मुसाफिर ही तो थे मगर बढ़ते गए !!
कई सपनो, कई उड़ानों को परवाज देना है अभी,
हाथ में कटी पतंग लिए हम उड़ते रहे !!

यूं तो मौसम कई ग़मगीन भी आये,
कई अश्क हमें पल – पल सताए !!
कुछ ने मुझको बाँधा, कुछ ने रोकना चाहा,
बंधिशो में अपनी, हमें तोड़ना भी चाहा !!

मगर मुकम्मल की गनीमत भी देखो,
हम उन रास्तों को छोड़, फिर निकल आये !!
जिंदगी के तराने लिए हम चल तो दिए,
मुसाफ़िर ही तो थे मगर बढ़ते रहे !!

ना जाने अब क्या मौसम होंगे,
ना जाने सफ़र पर कौन मुसाफ़िर मिलेंगे !!
कौन हमें यहाँ चलना सिखाएगा,
या कौन जो हमें यहाँ छोड़ कर जायेगा !!

मगर जिंदगी से अब इतना सीख लिया,
दिन को रात, रात को दोपहर बना दिया !!
जिंदगी के तराने लिए हम चल तो दिए,
मुसाफ़िर ही तो थे मगर बढ़ते रहे !!
~पुलकित प्रभाव

Musafir Hi To The Magar

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Zindagi Ke Taraane Liye Ham Chal To Diye,
Musafir Hi To The Magar Badhte Gaye !!
Kai Sapno, Kai Udaano Ko Parwaaj Dena Hai Abhi,
Hath Mein Kati Patang Liye Ham Udhte Rahe !!

Yu To Mausam Kai Gamgeen Bhi Aaye,
Kai Aksh Hamein Pal -pal Sataye !!
Kuch Ne Mujhko Baandha, Kuch Ne Rokna Chaha,
Bandisho Mein Apni, Hame Todna Bhi Chaha!!

Magar Mukkmal Ki Ganeemat Bhi Dekho,
Ham Un Raasto Ko Chhod, Fir Nikal Aaye !!
Zindagi Ke Taraane Liye Ham Chal To Diye,
Musafir Hi To The Magar Badhte Rahe!!

Na Jaane Ab Kya Mausam Honge,
Na Jaane Safar Par Kon Musafir Milenge !!
Kon Hame Yahan Chalna Sikhayega,
Ya Kon Jo Hame Chhod Kar Jayega !!

Magar Zindagi Se Ab Itna Seekh Liya,
Din Ko Raat, Raat Ko Dopahar Bana Diya !!
Zindagi Ke Taraane Liye Ham Chal To Diye,
Musafir Hi To The Magar Badhte Gaye!!
~Pulkit Prabhav

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?