लक्ष्य भी है, मंज़र भी है,
चुभता मुश्किलों का खंज़र भी है !!
प्यास भी है, आस भी है,
ख्वाबो का उलझा एहसास भी है !!

रहता भी है, सहता भी है,
बनकर दरिया सा बहता भी है!!
पाता भी है, खोता भी है,
लिपट लिपट कर रोता भी है !!

थकता भी है, चलता भी है,
कागज़ सा दुखो में गलत भी है !!
गिरता भी है, संभलता भी है,
सपने फिर नए बुनता भी है !!

Lakshye bhi hai, manzer bhi hai,
chubhta mushkilo ka khanjar bhi hai !!
pyaas bhi hai, aas bhi hai,
khwabo ka ulja ehsaas bhi hai !!

rehta bhi hai, sehta bhi hai,
bankar dariya sa behta bhi hai !!
pata bhi hai, khota bhi hai,
lipat lipat kar rota bhi hai !!

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
2 Comments
  1. devansh raghav 3 years ago

    Awsme Lines sir……

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?