शहर में होकर भी

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

शहर छोड़ गये हो ऐसा सोचा मैंने,
जब से तुम नजर नही आये !!
अजीब हो तुम शहर में होकर भी,
तुम हमारे शहर नही आये !!

जो तुम न दिखते हो पास तो,
अल्फाजों की निंदा कर देता हूँ मैं !!
कागजों और अल्फाजों को प्रताड़ित करके,
इन्हें शर्मिंदा कर देता हूँ मैं !!

जो तुम दिख जाते हो पास तो,
नयी कोशिश चुनिंदा कर लेता हूं मैं !!
दोनों की सुलह करवा कर,
नए अल्फाज़ जिंदा कर लेता हूँ मैं !!

गीले कागज हुए थे आब-ए-चश्म से मेरे,
तुम्हें क्यूं ये नजर नही आये !!
गलियों की गली में जिस गली से गुजरे,
उस गली में तुम कभी नजर नहीं आये !!
~कविश कुमार

shehar chod gaye ho aisa socha maine,
kab se tum nazar nahi aaye !!
ajeeb ho tum shehar mein hokar bhi,
tum hamare shehar nahi aaye !!

jo tum na dikhte ho paas toh,
alfaazo ki ninda kar deta hoon main !!
kagazo aur alfazo ko pratadit karke,
inhe sharminda kar deta hoon main !!

jo tum dikh jaate ho paas toh,
nayi koshish chuninda kar leta hoon main !!
dono ki sulah karwa kar,
naye alfaaz jinda kar leta hoon main !!

geele kagaz huye the aab-e-chasm se mere,
tumhe kyon ye nazar nahi aaye !!
galiyo’n ki gali mein jis gali se gujre,
us gali mein tum kabhi nazar nahi aaye !!
~Kavish Kumar

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?