तेरी यादों को दिल में

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

तेरी यादों को,
जो दिल में महफूज़ कर रहा हूँ,
कैसे खुद को आज,
अकेला महसूस कर रहा हूँ !!

दिल कहता है,
बैठ जाऊं नदी के इस तीर पर शिथिलता से,
फिर मैं सोचता हूँ,
यहाँ बैठकर किसका इंतजार कर रहा हूँ !!

इन लहरों के शोर में भी,
सन्नाटा महसूस कर रहा हूँ,
इस हवा में भी,
सांसो की गरमाहट महसूस कर रहा हूँ !!

तुम्हारें स्मृति शहद के आगे भी,
तुम्हारे जाने की कङवाहट महसूस कर रहा हूँ !!
बैठे हो यहीं या चले गये न खबर है,
बस दिल से तुम्हारें जाने की
आहट महसूस कर रहा हूँ !!

अब जाते-जाते ये बता दो जरा,
तुम लौटोगे वापस, सोचकर ये क्या सही कर रहा हूँ !!
या बस याद करके तुमको,
खुद को मायूस कर रहा हूँ…
~कविश कुमार

teri yaado’n ko,
jo dil mein mehfooz kar raha hoon,
kaise khud ko aaj,
akela mehsoos kar raha hoon !!

dil kehta hai,
baith jau nahi ke is teer par shithilta se,
phir main sochta hoon,
yahan baithkar kiska intzaar kar raha hoon !!

in lehro ke shor mein bhi,
sannaata mehsoos kar raha hoon !!
is hawa mein bhi,
sanso ki garmahat mehsoos kar raha hoon !!

tumhare smriti shehad ke aagey bhi,
tumhare jaane ki kadwahat mehsoos kar raha hoon !!
baithe ho ya chale gaye na khabar hai,
bas dil se tumhare jaane ki
aahat mehsoos kar raha hoon !!

ab jaate-jaate ye bata do zara,
tum lautoge wapas, sochkar ye kya sahi kar raha hoon !!
ya bas yaad karke tumko,
khud ko mayoos kar raha hoon !!
~Kavish Kumar

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
2 Comments
  1. vijay singh diggi 2 years ago

    ek meri taraf se tumhari is sher ki tarif me

    बहुत लिखने की कोशिश की
    पर लिख ना पाया कुछ ऐसा !!
    बहुत बोलने की कोशिश की
    पर बोल ना पाया कुछ ऐसा !!
    एहसास-ऐ -दिल बाया करने की कोशिश की
    पर कर न पाया कुछ ऐसा !!

    bahut khoob bro!! dil chu liya

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?