उसकी धड़कन को मेरी रूह से मिला

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

ए-खुदा सुन ज़रा,
ये रूह करती है तुझसे इल्तजा !!
मुलाकातों का सिलसिला,
अब तो शुरू करा !!

आखिर कब तक रखूँगा उसे मैं,
ख्यालों में संभाल कर !!
ए-खुदा हो अगर तेरी रज़ा,
अब तो उसको मुझसे रुबारु करा !!

पैगाम को तेरे,
तरस गया है जी मेरा !!
नहीं है वो सामने,
फिर भी रोज़ मुझे उसका सदका करा !!

ए-खुदा अब और न तरसा,
इन बेचैनियों को शांत करा !!
और उसकी धड़कन को,
मेरी रूह से मिला !!
~दश्मीत सिंह

Uski Dhadkan Ko Meri Rooh Se Mila

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Ae-khuda Sun Zara,
Ye Rooh Karti Hai Tujhse Ilteja !!
Mulaqaat’o Ka Silsila,
Ab Toh Shuru Kara !!

Aakhir Kab Tak Rakhunga Use Main,
Khayalo Mein Sambhal Kar !!
Ae-khuda Ho Agar Teri Raza,
Ab Toh Usko Mujhse Rubaru Kara !!

Paigaam Ko Tere,
Taras Gaya Hai Jee Mera !!
Nhi Hai Wo Saamne,
Phir Bhi Roz Mujhe Uska Sadka Kara !!

Ae-khuda Ab Aur Na Tarsa,
In Bechainiyo Ko Shaant Kara !!
Aur Uski Dhadkan Ko,
Meri Rooh Se Mila !!
~Dashmeet Singh

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?