वो बंदिबाज है और हम को

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

वो बन्दीबाज हैं और हम को, मिली नहीं कोई।
सभी की किस्मत जागी यहाँ, पर मेरी रही सोई।
भवँरा बन यूँ तो हम भी, हर कली पर थे मंडराएं।
पर प्यार हमारा पाने को कली, खिली नहीं कोई।
~देवांश राघव

Wo bandibaaj hai aur ham ko, mili nahi koi !
sabhi ki kismat jaagi yahan, par meri rahi soyi !
bhavra ban yu to ham bhi, har kali par the mandraatey !
par pyaar hamara paane ko kali, khili nahi koi !
~Devansh Raghav

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?