वो दोस्ती तो नहीं, है ये राज़

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

एक फुर्सत की रात,
तेरी सितारों से हुई बात !!
वो कहते है कि,
तू हमेशा देता है उसका साथ !!

तारीफ़ बहुत किए,
मगर उसके जैसा कोई नहीं !!
प्यार तो हम भी तुझसे करते है,
पर उसके जैसा निभाते नहीं !!

सुबह को तू अगर उससे नाराज,
तो वो शाम को मना लेता है !!
उसकी रौशनी से ही तो,
तू पल पल जी लेता है !!

दिखते तो कभी नहीं एक साथ,
पर दोनों मैं है कुछ बात !!
तरस जाते है एक दूसरे के लिए वो,
वो दोस्ती तो नहीं, है ये राज़ !!
~अंकिताशा मिश्रा

Wo Dosti To Nahi Hai Ye Raaz

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Ek Fursat Ki Raat,
Teri Sitaron Se Huyi Baat !!
Wo Kehte Hai Ki,
Tu Humesha Deta Hai Uska Sath !!

Taarif Bohat Kiye,
Magar Uske Jaisa Koi Nahi !!
Pyaar To Ham Bhi Tujhse Karte Hai,
Par Uske Jaisa Nibhate Nahi !!

Subah Ko Tu Agar Usse Naraj,
To Wo Shaam Ko Mana Leta Hai !!
Uski Roshni Se Hi To,
Tu Pal Pal Jee Leta Hai !!

Dikhte To Kabhi Nahi Ek Sath,
Par Dono Main Hai Kuch Baat !!
Taras Jate Hai Ek Doosre Ke Liye Wo,
Wo Dosti To Nahi, Hai Ye Raaz !!
~Ankitasha Mishra

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?