वो कहती है,
तुम्हारी हर दुआ,
हर आहट!
हर मुस्कुराहट
मेरी क्यों है?

तुम्हारे होठों से निकली हर सरसराहट,
मेरी क्यों है!
क्यों तुम्हारी हर धड़कन, हर साँस पर,
बस मेरा नाम है!
अब तुम्हारे दिल की हर बात मेरी क्यों है?

वो कहती है-
क्यों है मोहब्बत मुझसे ?!

मैं कहता हूँ !
वो तितली छोडके फूलों को,
तुमसे मिलने आती है !
तुम छूती हो जिन चीजों को,
वो ख़ास कुछ हो जाती है !
कैसे रोकू मैं उन परिओं को?
जो तुमसे सवरना चाहती है !
वो बारिश की बूंदे भी,
जो तुम पर रुकना चाहती है !

कैसे रोकू इन सबको!
मैं कैसे टोकू इन सबको?
जबकि मैं खुद,
तुमसे मिलने के बहाने करता हूँ !
जिसमे न हो तुम,
वो किस्से पुराने करता हूँ !

हरपल सोचकर तुमको,
खुद को ख़ास समझने लगता हूँ!
तुमसे न हो बात अगर तो !
खुद को बर्बाद समझने लगता हूँ !

हरपल तन्हा में जीता हूँ !
और एक ही सूरत ताकता रहता हूँ !
क्योंकि! कुछ ख़ास है तेरी उन बातों में,
कुछ ख़ास है तेरी उन मुलाकातों में !

कुछ ख़ास संवर कर आती है !
हर बार संवर कर आती है !

राधा मोहन की बातों का,
संसार सजाए जाती है !
मेरे गीतों और गज़लों को,
हर शाम सुनाए जाती है !
हर शाम सुनाए जाती है !

फिर वो कहती है !
मोहब्बत क्या है ?
और मैं सिर्फ इतना ही कह पता हूँ !

तेरी यादों में पतंगा बनकर जल जाना मोहब्बत है !
तेरे बिना जीना जैसे फूलों में काँटों का चुभ जाना मोहब्बत है !
कैसे रोकू मैं खुद को, तुमसे मोहब्बत करने से !
हर शाम तेरी यादों में मर जाना मोहब्बत है !
हर शाम तेरी यादों में मर जाना मोहब्बत है !

wo kehti hai,
tumhari har dua ,
har ahat !
har muskurahat
meri kyon hai ?

tumhare hotho’n se nikli har sarsarahat,
meri kyon hai !
kyon tumhari har dhadkan, har sans par,
bus mera naam hai !
ab tumhare dil ki har baat meri kyon hai ?

wo kehti hai –
kyon hai mohabbat mujhse ?!

main kehta hu !
wo titli chodke phoolo’n ko,
tumse milne aati hai !
tum chooti ho jin cheezo ko,
wo khaas kuch ho jaati hai !
kaise roku main un pario ko ?
jo tumse savarna chahti hai !
wo barish ki boonde bhi,
jo tumpar rukna chahti hai !

kaise roku in sabko !
main kaise toku in sabko ?
jabki main khud,
tumse milne ke bahane karta hu !
jisme na ho tum,
wo kisse puraane karta hu !

harpal sochkar tumko,
khud ko khaas samjhne lagta hu !
tumse na ho baat agar to !
khud ko barbaad samjhne lgta hu !

harpal tanha main jeeta hu !
aur ek hi soorat takta rehta hu !
kyonki ! kuch khaas hai teri un baato’n mein,
kuch khaas hai teri un mulakaato’n mein !

kuch khaas sawar kar aati hai !
har baar sawar kar aati hai !

radha mohan ki baato’n ka,
sansaar sajaye jaati hai !
mere geeto aur gazalo ko,
har shaam sunaye jaati hai !
har shaam sunaye jaati hai !

phir wo kehti hai !
mohabbat kya hai ?!
aur main sirf itna hi keh pata hu !

teri yaado’n mein patanga bankar jal jana mohabbat hai !
tere bina jeena jaise phoolo’n mein kaato’n ka chub jana mohbbat hai !
kaise roku main khud ko, tumse mohabbat krne se !
har shaam teri yaado mein mar jana mohabbat hai !
har shaam teri yaado mein mar jana mohabbat hai !

Like Our Page On Fb

To report this post you need to login first.
0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

About Us | Contact Us | Terms | Privacy | Guide | Help & Support

© 2017 Poems Bucket| All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?