Ab Kab Lautuga Phir Se Gaav – Hindi Kavita

अब कब लौटूंगा फिर से गाँव

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

आने,
बारां आने और
चाराने
गए जो दिन गुजर,
फिर कँहा वो
लोट कर
आने !!
जो मजा आता था
सतोलिये के
सात पत्थर
जमाने में,
वो मजा नही आता
अब कागज के
टुकड़े कमाने में !!
उतना भी अच्छा
नही लगता
मुझको ये बाइक को
दौड़ाना,
कितना मजा आता
था वो
डंडा लेकर टायर चलाने में !!
चाय,कॉफ़ी,ग्रीन टी,
इनसे प्यास नही
बुझती
वो लस्सी,दही,
छांछ ही
मुझको
सूझती है !!
यँहा दफ्तर में कुछ
दोस्त है
पर वो हमेशा
रहते
व्यस्त है
दिन गिन
रहा हूँ
अब
कब लौटूंगा
फिर से
गाँव !!
~रवि कुमार हिंद

Ab Kab Lautuga Phir Se Gaav

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Aane,
Baarah Aane Aur
Chaarane
Gaye Jo Guzar,
Phir Kahan Wo
Laut Kar
Aane !!
Jo Maza Aata Tha
Satoliye Ke
Saath Patther
Zamaane Mein,
Wo Maza Nahi Aata
Ab Kagaz Ke
Tukde Kamaane Mein !!
Utna Bhi Accha
Nahi Lagta
Mujhko Ye Byke Ko
Dodana,
Kitna Maza Aata
Tha Wo
Danda Lekar Tayer Chalane Mein !!
Chai, Koffee, Green Tea,
Inse Pyaas Nahi
Bujhti
Wo Lassi, Dahi,
Chhachh Hi
Mujhko
Soojti Hai !!
Yahan Daftar Mein Kuch
Dost Hai
Par Wo Hamesha
Rehte
Vyast Hai
Din Gin
Raha Hoon
Ab
Kab Lautuga
Phir Se
Gaav !!
~Ravi Kumar Hind

Kumar ravi hind
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account