पोएम्स बकेट

एक वेबसाइट नए लेखकों, बेहतरीन शायरियों के लिए !

आज की उत्तम पंक्तियाँ

सफर का मजा,
उन्होंने ही लिया जो चलते रहे !!
बैठ गए जो थककर,
वो तो बस धूप में जलते रहे !!
©नीवो

शिष्य सफलता सर्वोच्च जहां,
वहां आज भी ज्ञान अपार है !!
पर बैठ गए ठेकेदार जहां जहां,
वहां तो सिर्फ व्यापार है !!
©नीवो

मन मुताबिक शायरियाँ

विशेष लेखक

Nivo

नीवो

“अश्क आंखों से छलक गया,
दे दो पनाह मुसाफ़िर को, किसी धाम की तरह !!
देखो ज़रा ! सूरज भी ढल गया,
आ जाओ तुम मिलने, फिर उस शाम की तरह !!”

“तेरी हुस्न-ए-तारीफ़
जो हम किया करते है ,
तेरी सूरत पर नहीं,
तेरी सीरत पर किया करते है…”

बधाईयाँ संग्रह

साथ रहिए

लेख

ऑडियो-विडियो

इश्क़. मोहब्बत. इबादत

इन पर हमारे साथ जुड़े

Made with in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

Forgot your details?