चल नया इतिहास बनाएं

आ थोड़ा और दम लगाएं,
चल बुलन्दियों को झुकाएं !!

छोड़ गैरों के कन्धो का सहारा,
चल थोड़ा खुद को आजमाएं !!

अन्धेरों के उस पार चलें,
चल ख़्वाबों को रोशनी दिखाएं !!

अपने हिस्से भी होगा उजाला,
चल नया सूरज उगाएं !!

आजमाकर भुजाओं की ताकत,
चल मुसीबतों को हराएं !!

कायरता के पन्नो को फाड़,
चल नया इतिहास बनाएं !!
~आनंद गर्ग “परम”

Aa thoda aur dam lagaye,
chal bulandio ko jhukaye!!

chod geiro ke kandho ka sahara,
chal thoda khud ko aajmaaye!!

andhero ke us paar chale,
chal khwabo ko roshni dikhaye!!

apne hisse bhi hoga ujala,
chal nya suraj ugaye!!

aajmakar bhujao ki takat,
chal musibato’n ko haraye!!

kayarta ke panno ko faad,
chal nya itihaas banaye!!
~Anand Garg ‘Param’

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account