बेताब तमन्नाओं की कसक

बेताब तमन्नाओं की कसक रहने दो,
मंज़िल को पाने की कसक रहने दो !!
चाहे रहो मेरी नज़रो से दूर,
लेकिन !
इन आँखों में अपनी एक झलक रहने दो !!

Betaab tamannao ki kasak rehne do,
manzil ko paane ki kasak rehne do !!
chahe raho meri nazaro se door,
lekin !
in aankho mein apni ek jhalak rehne do !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account