Dikhta Hai Wo Roz – Love Shayari

दिखता है वो रोज़

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

नीला आसमान, गहरी उसकी सोच,
ऊपर देखती हूँ तो, दिखता है वो रोज़ !!
कुछ बात थी, जो वो कहना चाहता था,
बड़े प्यार से दिल भी, सुन लेना चाहता था !!

आसमान को भी बारिश का इंतज़ार था,
छुप छुप के वो भी रो लिया करता था !!
डर जाता था वो जब गर्जती थी बिजली उस पर,
कभी छुप जाना चाहता था खुद की परछाई पर !!

रात आये तो उसको अपना डर सुनाया करता था,
तनहाइयों में भी चाँद बड़ी ताकत दे जाता था !!
फिर एक नई सुबह रौशनी के साथ आई,
हर डर को काबू में करके, वो फिर से छा गया !!
~अंकिताशा मिश्रा

Dikhta Hai Wo Roz

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Nila Aasman, Gehari Uski Soch,
Upar Dekhti Hu To, Dikhta Hai Wo Roz !!
Kuch Baat Thi, Jo Wo Kehna Chahta Tha,
Bade Pyaar Se Ye Dil Bhi, Sun Lena Chahta Tha !!

Aasman Ko Bhi Baarish Ka Intezaar Tha,
Chup Chup Ke Wo Bhi Roo Liya Karta Tha !!
Dar Jata Tha Wo Jab Garajti Thi Bijli Uspar,
Kabhi Chup Jana Chahta Tha Khud Ki Parchayi Par !!

Raat Aaye To Usko Apna Dar Sunaya Karta Tha,
Tanhaiyon Me Bhi Chand Badi Taakat De Jata Tha !!
Phir Ek Nayi Subhah Roshni Ke Sath Aayi,
Har Dar Ko Kaabu Mein Karke, Wo Phir Se Cha Gaya !!
~Ankitasha Mishra

Ankitasha Mishra
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account