दोस्ती जितनी पुरानी हो

कोई मरहम न इस दिल के काम आता है,
एक हवा का झोंका दर्द बड़ा जाता है !!
दोस्ती जितनी पुरानी हो बेहतर है,
क्योंकि !
नया दोस्त नया ज़ख्म लगा जाता है !!

Koi marham na is dil ke kaam ata hain,
Ek hawa ka jhonka dard bada jata hai !!
Dosti jitni purani ho behtar hai,
Kyonki !
naya dost naya zakhm laga jata hai !!

PoemsBucket
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account