हम भी कितने पागल थे

हम भी कितने पागल थे

बड़ी फोटो देखने के लिए क्लिक करे

झूठ कभी न बोलना,
हमारी झूठ से अच्छी दोस्ती है !!
तुम जो भी झूठ बोलते थे,
वो हमको आकर कहती है !!

तुम झूठ के साथ दस्तक देते थे,
और हम बड़े प्यार से आने देते थे !!
हम भी कितने पागल थे सच्ची,
जान के भी तुमको अपना लिया करते थे !!

फिर खुद से ही नाराज़ होकर,
बहुत रो लिया करते थे !!
सब जान कर भी हम अनजान रहते थे,
गलती होगी क्योंकि हम भी इंसान थे !!
~अंकिताशा मिश्रा

Ham Bhi Kitne Pagal The

Badhi Photo Dekhne Ke Liye Click Kare

Jhoot Kabhi Na Bolna,
Hamari Jhoot Se Acchi Dosti Hain !!
Tum Jo Bhi Jhoot Bolte The,
Wo Humko Akar Kehti Hain !!

Tum Jhoot Ke Saath Dastak Dete The,
Aur Hum Bade Pyaar Se Ane Dete The !!
Hum Bhi Kitne Pagal The Sachi,
Jaan Ke Bhi Tumko Apna Liya Karte The !!

Phir Khud Se Hi Naraj Hokar,
Bahut Ro Liya Karte The !!
Sab Jaan Kar Bhi Ham Anjan Rehate The,
Galti Hogi Kyunki Hum Bhi Insaan The !!
~Ankitasha Mishra

Ankitasha Mishra
Share This

कैसा लगा ? नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर बताइए!

0 Comments

Leave a reply

Made with  in India.

© Poems Bucket . All Rights Reserved.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account